शीतलहर को लेकर सिविल सर्जन ने जारी किया अलर्ट

मुजफ्फरपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| मुजफ्फरपुर जिले में बढ़ते ठंढ एवं शीतलहर को देखते हुए के सभी अस्पतालों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. इसी मद्देनजर सभी सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों को मुजफ्फरपुर सिविल सर्जन द्वारा पत्र भेजा गया है.

पत्र के माध्यम से यह कहा गया है कि अस्पताल के आसपास या फिर अस्पताल में आने जाने वाले सभी लोगों को शीतलहर और ठंड से संबंधित सही जानकारी देना सुनिश्चित करेंगे. साथ ही शीतलहर से होने वाली बीमारियों से पीड़ित सभी मरीजों की प्रतिदिन रिपोर्ट सिविल सर्जन कार्यालय को जमा करानी है.

जिले में बढ़ते शीतलहर ठंड की स्थिति को देखते हुए मुजफ्फरपुर सिविल सर्जन ने निर्देशित किया है कि सभी सरकारी और गैर सरकारी अस्पताल अपने क्षेत्र के अंतर्गत शीतलहर से बचाव एवं इसके लक्षण से सभी को अवगत कराएंगे तथा इससे उत्पन्न होने वाली बीमारी पर निगरानी रखेंगे. साथ ही ठंड से आक्रांत मरीजों की सूची प्रतिदिन सिविल सर्जन कार्यालय को भेजना सुनिश्चित करेंगे.

इस पत्र में बताया गया है कि शीतलहर या ठंड लगने पर व्यक्ति में निम्न लक्षण उत्पन्न होते हैं: 1. शरीर का ठंडा होना एवं इसके अंगों का सुन्न पड़ जाना, 2. अत्यधिक कपकपी या ठिठुरन होना, 3. बार बार उल्टी की इच्छा या उल्टी का होना, 4. अत्यधिक सुस्त हो, 5. अर्धबेहोशी की स्थिति में हो अथवा बेहोश होना.

साथ ही पत्र में शीतलहर या ठंड से बचाव हेतु उपायों के बारे मे भी बताया गया है. इसके अनुसार, जब तक बाहर जाने की जरूरत ना हो यथासंभव घर में ही रहने का प्रयास करें. यदि घर से बाहर जाना आवश्यक हो तो समुचित ऊनी एवं गर्म कपड़े पहन कर ही निकले. समाचार पत्र रेडियो टेलीविजन से मौसम के संबंध में दी जाने वाली जानकारी पर ध्यान दें. बंद कमरों में जलती हुई लालटेन दिया या कोयले की अंगीठी का प्रयोग करते समय धुएं के निकास का उचित प्रबंध करें. प्रयोग के बाद इन्हें अच्छी तरह से बुझा दे. हिटर ब्लोअर आदि का प्रयोग करने के बाद स्विच ऑफ करना ना भूले अन्यथा यह जानलेवा हो सकता है.

ठंड के मौसम में श्वसन संबंधी बीमारी बढ़ने की संभावना बनी रहती है. कोविड-19 वैश्विक महामारी के मद्देनजर श्वसन संबंधी कोई भी लक्षण नजर आने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में संपर्क करने को कहा गया है. दमा, हृदय रोग, रक्तचाप, एलर्जी आदि से ग्रसित मरीजों को आवश्यक सावधानी अपनाने की सलाह दी गई है. कहा गया है कि किसी भी तरह की समस्या होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र से अवश्य संपर्क करें. विशेष परिस्थिति में नजदीकी सरकारी अस्पताल में चिकित्सीय परामर्श लें अथवा रोगी वाहन एंबुलेंस की सहायता लेने हेतु दूरभाष संख्या 102 पर संपर्क करें. इन सबके ऊपर, मास्क का निश्चित रूप से उपयोग करने की सलाह दी गई है क्योंकि सावधानी ही बचाव है.

error: Content is protected !!