बिहार में नक्सलियों के बड़े हमले की साजिश का खुलासा, 54 आईईडी बरामद

औरंगाबाद (TBN रिपोर्टें) | सोमवार को CRPF की टीम ने बिहार के औरंगाबाद में नक्सलियों द्वारा एक बड़े हमले की साजिश को नाकाम कर दिया. दरअसल सुरक्षा बलों को निशाना बनाने के लिए नक्सलियों ने औरंगाबाद के जंगलों में कई किलोमीटर के क्षेत्र में एक साथ 54 IED लगाई थीं. यदि इसमें विस्फोट होता तो एक साथ सैकड़ों जवानों की जान जा सकती थी.

CRPF की 205 कोबरा बटालियन और 153 बटालियन ने करीब 12 घंटे तक सर्च ऑपरेशन चलाया. सर्च ऑपरेशन के बाद सभी आईईडी को बरामद कर उन्हें निष्क्रिय कर दिया गया. गौरतलब है कि इस हमले और आईईडी की खुफिया जानकारी भी CRPF की इंटेलिजेंस इकाई ने ही दी थी.

जैसा की CRPF ने बताया, औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक गांव सहियारी के जंगलों में ये आईईडी मिले. खुफिया सूचना मिलने के बाद सीआरपीएफ ने सोमवार सुबह पांच बजे वहां पर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया था. CRPF के जवान तब हैरान रह गए जब उन्होंने एक के बाद एक 54 आईईडी बरामद किए. ये सभी 54 आईईडी एक दूसरे से तार के माध्यम से जुड़े थे तथा इन्हें कई किलोमीटर के क्षेत्र में दबाया गया था. कहा जाता है कि यदि इनमें से एक भी आईईडी में विस्फोट होता तो बाकी के सारे विस्फोटक भी तुरंत सक्रिय हो जाते और ब्लास्ट कर गए होते.

साधारणतया नक्सलियों द्वारा इतनी बड़ी संख्या में आईईडी तभी लगाई जाती है, जब उन्हें कोई बड़ा हमला करना होता है. ऐसे हमलों में वे चारों तरफ आईईडी लगाकर सुरक्षा बल का इंतजार करते हैं. जब सुरक्षा बाल  आईईडी के जाल में फंस जाते हैं, तो नक्सली उनमें विस्फोट कर उनपर चारों ओर से अंधाधुंध फायरिंग कर मार देते हैं.