असमय वर्षा से खड़ी फसलों को क्षति; भरपाई हेतु राज्य सरकार दृढ़-संकल्प : कृषि मंत्री

पटना (TBN रिपोर्ट) | राज्य में फरवरी/मार्च के महीने में असमय वर्षा से खेतों में खड़ी फसलों को काफी नुकसान होने का अनुमान है. इस बावत बिहार सरकार के कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार ने शनिवार को कहा कि राज्य में रबी 2019-20 मौसम के मार्च, 2020 को असमय वर्षा के कारण खड़ी फसलों को काफी क्षति हुई हुई है जिसका आकलन करने हेतु सभी जिला कृषि पदाधिकारी एवं प्रमंडलीय संयुक्त निदेशक (शष्य) को निर्देश दिया गया है.

मंत्री ने कहा कि भारतीय मौसम विज्ञान विभाग से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार दिनांक 13 मार्च, 2020 सुबह 08:00 बजे से दिनांक 14 मार्च, 2020 प्रातः 08:00 बजे के बीच 15.6 मिलीमीटर वर्षा हुई है, जबकि इस अवधि में सामान्य वर्षा मात्र 0.2 मिलीमीटर ही होनी चाहिए. इस तरह असमय वर्षा से खेतों में तैयार दलहनी, तेलहनी फसलों के साथ-साथ गेहूँ फसल को भी नुकसान की सूचना प्राप्त हो रही है.

उन्होंने कहा कि सभी किसान सलाहकार, कृषि समन्वयक, सहायक तकनीकी प्रबंधक, प्रखंड तकनीकी प्रबंधक तथा प्रखंड कृषि पदाधिकारियों को निदेशित किया गया है कि वे अपने कार्यक्षेत्र के सभी किसानों के फसलों की वास्तविक स्थिति तथा क्षति का आकलन कर विहित प्रपत्र में प्रतिवेदन उपलब्ध करायें. असमय वर्षा होने तथा जलवायु परिवर्तन के कारण किसानों को हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए सरकार दृढ़संकल्पित है. आपदा की स्थिति में सरकार के खजाने पर पहला हक आपदा पीड़ितों का है.

मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि फरवरी माह में असमय वर्षा/आँधी/ओलावृष्टि के कारण खड़ी फसलों को हुई क्षति की भरपाई के लिए राज्य सरकार द्वारा प्रतिवेदित 11 जिलों औरंगाबाद, भागलपुर, बक्सर, गया, जहानाबाद, कैमूर, मुजफ्फरपुर, पटना, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर तथा वैशाली में प्रभावित किसानों को कृषि इनपुट अनुदान उपलब्ध कराने की प्रक्रिया प्रक्रिया चल रही है.