यहां सभी स्वास्थ्य केंद्र हैं बदहाल, कहीं भूत बंगला तो कहीं बना तबेला

कटिहार (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के कटिहार के बरारी विधानसभा क्षेत्र के समेली प्रखंड के लगभग सभी स्वास्थ्य केंद्र बदहाल स्थिति में हैं. कोई केंद्र भूत बंगला बन गया है तो कहीं तबेला बना दिया गया है. कुछ को तो जलावन घर बना दिया गया है.

बिहार सरकार जिले के साथ साथ प्रखंड क्षेत्रो में कोरोना काल के दौरान बेहतर स्वास्थ सुविधा पहुंचाने के दावे तो कर रही है, लेकिन दावों की हकीकत क्या है, यह बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद के गृह जिला कटिहार में दिख रहा है. हम उस विधानसभा की बात कर रहे हैं जहां के विधायक जेडीयू के विजय सिंह है.

बरारी विधानसभा क्षेत्र के समेली प्रखंड में बनाये गए लगभग सभी प्राथमिक स्वास्थ केंद्र भूत बंगला बना हुआ है. स्थानीय लोग कहते हैं कि ये स्वास्थ्य केंद्र 10 साल पहले बना था और इसमे चार दिन डॉक्टर भी आये. लेकिन डॉक्टर साहव जब गए तो आजतक वापस ही नहीं आये. अस्पताल के अंदर जो भी सामानें लगी थी, सुरक्षा नहीं रहने के कारण उनकी चोरी हो चुकी है. अब यह अस्पताल जंगलों से घिरा हुआ है और भूत बगला बना हुआ है.

यही हाल इस प्रखंड के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों का भी है. बीस हज़ार की आबादी वाला गांव मोहना चांदपुर का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, जिसका निर्माण 1970 में हुआ था, दिखने में तो चकाचक है लेकिन यह अस्पताल पशुओं का तबेला बन चुका है. स्थानीय लोग कहते हैं कि पिछले दो साल से यहां कोई डॉक्टर और नर्स आए ही नहीं है. यहां प्रसव के लिए एक कमरा भी है जो गोबर रखने के काम में लाया जा रहा है,

ये भी पढ़िए बिहार: लॉकडाउन-4 के गाइडलाइंस, पूरा पढ़िए यहां

वहीं दीरा चांदपुर प्राथमिक स्वास्थ केंद्र को जलावन रखने के काम तो प्राथमिक स्वास्थ केंद्र, कुरसेला को पशुओं को रखने के काम में लाया जा रहा है. स्थानीय लोग और यहां के वर्तमान जिला पार्षद कुमारी सरिता कहती है कि कोरोना काल मे लोगों को बेहतर इलाज मिले, इसके लिए स्वास्थ व्यवस्था सिर्फ कागजों पर ही चल रहा है.

स्थानीय लोगो ने मांग किया है कि इस प्रखंड में सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर दवाई और डॉक्टर की व्यवास्था की जाए ताकि लोगों का समुचित इलाज हो सके.