विदेश से लौटे लोगों को ढूंढ रहा प्रशासन

पटना (TBN रिपोर्ट) :- बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 11 हो चुकी है. कोरोना संक्रमण का पहला मामला विदेश से बापिस आये व्यक्ति के मिलने के बाद से उसकी जाँच में कोरोना पॉजिटिव आने के बाद सामने आया. उस कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आने के बाद ही चार अन्य लोगों को कोरोना वायरस ने अपने शिकंजे में जकड लिया. इसके अलावा जो चार और पॉजिटिव मामले  मिले हैं, वे लोग भी विदेश से वापस लौटकर आये थे. अब ऐसे में सरकार के द्वारा प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को विदेश से आए हर व्यक्ति को संदिग्ध की श्रेणी में रखने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं.

कोरोना संदिग्धों की तलाश सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती है. कोरोना वायरस संक्रमण के गंभीर मामले को देखते हुए सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन को इसकी जिम्मेदारी सौंपते हुए आदेश जारी किया जिसके तहत 10 मार्च के बाद विदेश से आए हर व्यक्ति की तलाश के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं और इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने जिला प्रशासन के सहयोग से कई टीमों का गठन किया है जो ऐसे व्यक्तियों की खोज करेगी जो 10 मार्च के बाद विदेश से लौटकर बापिस आये हैं. खोजने के उपरांत अगर ऐसा कोई कोरोना का  संदिग्ध व्यक्ति मिलता है तो उसे आइसोलेशन में रखा जाएगा और उस व्यक्ति के संपर्क में आए हर व्यक्ति की जाँच करवाई जाएगी.   

स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन मिलकर कोरोना संदिग्धों की तलाश करेंगे. यह काम जिलाधिकारी और सिविल सर्जन की निगरानी में किया जा रहा है तथा इसके लिए नोडल अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं. पटना में शनिवार की शाम तक एक दर्जन से भी अधिक लोगों का सत्यापन करवा लिया गया है और अब टीम बहुत जल्द उनके घर जांच का नमूना लेने पहुंचेगी. इस संबंध में सभी जिलों के जिलाधिकारी और सिविल सर्जनों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग भी की गई है.

स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन विदेश से आए व्यक्तियों को खोजने के लिए ये तरीके अपना रही है :-

–  10 मार्च के बाद विदेश से बिहार लौटकर आये व्यक्तियों की सूची तैयार की जा रही है. इसके साथ ही इस पर भी नज़र रखी जा रही है कि  संबंधित व्यक्ति से मोबाइल पर बात करने वाला व्यक्ति  मौजूदा समय में क्वारेंटाइन में है या नहीं. 

विदेश से बिहार लौटकर आये व्यक्तियों की सूची के सत्यापन का काम स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन के द्वारा किया जा रहा है. सूची के आधार पर आसपास के लोगों से संबंधित व्यक्ति के बारे में पूरी  जानकारी जुटाई जा रही है.

प्रशासन और विभाग के द्वारा विदेश से आये उन लोगों की अलग से सूची बनाई जाएगी जो होम क्वारेंटाइन का पालन नहीं कर रहे हैं इसके साथ उन व्यक्तियों के संपर्क में आने वाले सभी व्यक्ति भी प्रशासन के जांच के दायरे में रहेंगे और उनपर जिला प्रशासन के द्वारा निगरानी भी रखी जाएगी.