फ्लड रिटर्न को लेकर लोगों में दहशत; प्रशासनिक महकमा हुआ सक्रिय

बगहा (इमरान अजीज – The Bihar Now रिपोर्ट) | उत्तर बिहार में अगले तीन दिनो तक होने वाली भारी बारिश को लेकर मौसम विभाग अलर्ट जारी किया है. इस अलर्ट के बाद पश्चिम चम्पारण जिलावासियों की परेशानी बढ़ गई है. एक तरफ जहां मूसलाधार वर्षा से गांव से शहर तक लबालब पानी भरने लगा है, वहीं दूसरी तरफ इलाक़े की नदियां उफान मारने लगी हैं.

लगातार हो रही बारिश से गंडक, मसान, भपसा, समेत सभी नदियों के जलस्तर में वृद्धि हो रही है. इस कारण इलाके में एक बार फिर फ्लड रिटर्न को लेकर लोगों में दहशत है. साथ ही बाढ़ की संभावना को देखते हुए प्रशासनिक महकमा भी सक्रिय हो गया है.

प्रशासन द्वारा बाढ़ से जानमाल की सुरक्षा और बचाव हेतु युद्धस्तर पर तैयारी शुरू कर दी गई है. प्रशासन की पूरी टीम के साथ पश्चिम चम्पारण के डीएम कुंदन कुमार ख़ुद तटबंधों पर पहुंचे तथा चम्पारण तटबंध का जायजा लिया.

खबरों के मुताबिक गंडक नदी का जलस्तर पिछले दो दिनो में काफी घट गया था. परंतु नेपाल के क्षेत्रों में 150 एमएम की हुई बारिश से फिर से एक बार गंडक नदी का जलस्तर बढ़ने की संभावना है. इस कारण चम्पारण तटबंध पर दवाब बढ़ने की भी आशंका है. इसको देखते हुए डीएम ने 190 होमगार्ड जवानो को नदी तट पर तैनात किया है और बांध पर जल संसाधन विभाग के अभियंताओ को 24 घंटे पेट्रोलिंग करने का निर्देश भी दिया है.

गंडक के निचले इलाके में रहने वाले लोगों को पश्चिम चंपारण के डीएम के निर्देश पर जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित ऊंचे स्थान या कैंप में चले जाने की अपील की गई है. माईकिंग के माध्यम से भी लोगो से ऊंचे स्थान पर जाने की अपील की जा रही है.

एक तरफ नेपाल में लगातार बारिश हो रही हैं तो वहीं पश्चिम चम्पारण जिले में भी मूसलाधार बारिश शुरू हो गई है. इससे पश्चिम चंपारण जिला के वासियों को कोरोना व बाढ़ की दोहरी मार झेलनी पड़ रही है. इस कारण लोगों की परेशानी बढ़ती ही जा रही हैं. इस स्थिति में यह देखना होगा कि पश्चिम चम्पारण जिले के लिए आने वाले तीन दिन किस तरह का कहर बरपाता है.

Advertisements