घरवालों ने कहा उसे थी बीमारी, गांव वाले बोले कोरोना से हुई मौत

मशरक (TBN रिपोर्ट) | मशरक थाना क्षेत्र के अरना पूरब टोला गांव में काली स्थान के पास सिलीगुड़ी से आये एक व्यक्ति की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई. उसकी मौत के बाद गाँव वालों ने इसका कारण कोरोना वायरस बताया जबकि घर वालों ने इसे बीमारी से हुई मौत बताया.

मामला है कि अरना पूरब टोला गांव निवासी स्व. मथुरा शर्मा के 45 वर्षीय पुत्र प्रदीप शर्मा का, जो एक सप्ताह पहले सिलीगुड़ी से घर लौटा था. घर लौटने के समय से ही उसकी तबीयत खराब थी. उसे सर्दी खासी और बुखार के साथ फेफड़ा से सांस लेने की समस्या थी.

सोमवार 1 जून की सुबह चार बजे के करीब प्रदीप की मौत हो गई जिससे परिजनों में हड़कंप मच गया. उसकी मौत के बाद उसके दरवाजे पर गांव वाले भी जाने से डरने लगे. उन्होंने कहा कि जब तक मृतक की कोरोना की जांच नहीं हो जाती, तब तक उसका दाह संस्कार नही होगा.

परिजनों ने प्रखंड प्रशासन को इसकी जानकारी दी. मौके पर शिक्षक नेता संतोष सिंह ने पहुंचकर मामले में पहल करते हुए पीएचसी प्रभारी डॉ अनंत नारायण कश्यप को मामले की जानकारी दी.

पीएचसी प्रभारी द्वारा इसकी जानकारी जिला प्रशासन को दी गई. इसके लगभग तेरह घंटे बाद जिला से आयी एम्बुलेंस टीम ने जांच के लिए मृतक के गले से स्वाग का सैम्पल लिया. जांच के लिए मृतक का सैम्पल कलेक्ट हो जाने के बाद परिजनों ने मृतक का दाह संस्कार करने की प्रक्रिया शुरू किया.

इस बारे में परिजनों ने दी बिहार नाउ (The Bihar Now) को बताया कि मृतक को पहले से ही फेफड़ें की बीमारी से ग्रसित था, जिसकी वजह से उसकी मौत हुई है. परंतु गांव में किसी ने अफवाह फैला दिया कि मृतक प्रदीप को कोरोना की बीमारी थी.