मोतिहारी: जर्जर स्कूल का एक बड़ा हिस्सा टूट कर गिरा, मची भगदड़

मोतिहारी (TBN – The Bihar Now डेस्क)| गुरुवार को जिले (Motihari) के छौड़ादानो प्रखंड मुख्यालय के एकडरी गांव स्थित जयप्रभा कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय (Jaiprabha Girls Higher Secondary School) के जर्जर भवन के छज्जे का एक बड़ा हिस्सा टूट कर गिर गया. वहीं अन्य कमरों व सीढी से उपर जाने वाले छत सहित अन्य कमरो के छतों के प्लास्टर के टूट कर गिरने से विद्यालय में मौजूद शिक्षक व छात्राओं के बीच भगदड़ मच गयी.

गनीमत यह रही की छज्जे के मलवे के चपेट में कोई नहीं आया और बड़ी अनहोनी होने से बच गयी. लेकिन इस घटना के बाद स्कूल की छात्राएं दहशत में आ गयीं और पठन – पाठन का कार्य बाधित हो गया. छात्राएं अपने घर चली गयी.

इस घटना की सूचना तुरंत प्रखंड विकास पदाधिकारी को दिया गया. सूचना मिलते ही बीडीओ नीरज सिंह ने विद्यालय पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया.

विद्यालय की प्रभारी प्रधानाध्यापिका अनिता कुमारी ने बीडीओ को विद्यालय भवन की जर्जर स्थिति का अवगत कराया और किसी बड़ी दुर्घटना से बचने के लिए विद्यालय को तात्कालिक तौर पर अन्यत्र कहीं शिफ्ट कराने की मांग की.

इस पर बीडीओ ने अपने स्तर से जिला शिक्षा विभाग को पत्र लिख कर मामले से अवगत कराने का आश्वासन दिया. वहीं विद्यालय की प्रधानाध्यापिका ने भी जिला शिक्षा पदाधिकारी और क्षेत्रीय विधायक सह विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष डॉ. शमीम अहमद को आवेदन देकर विद्यालय के लिए नये भवन निर्माण की मांग की है.

यह भी पढ़ें| कानून बनाकर राज्य में पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ किया – नीतीश

उन्होंने बताया कि विद्यालय का भवन निर्माण अस्सी के दशक में हुआ था और अब यह जर्जर हालत में है. उन्होंने कहा की पिछले दो वर्षों में कई बार भवन की जर्जर हालत को लेकर जिला शिक्षा कार्यालय को पत्र लिख कर किसी अप्रिय घटना के घटित होने की सम्भावना से अवगत कराया गया है और नये भवन निर्माण के लिए गुहार लगायी गयी है.

बताया जा रहा है कि स्कूल भवन में मात्र पांच कमरे हैं जो यहां पढ़ने वाले छात्राओं और शिक्षकों के अनुपात में काफी कम है. इन कमरों की छतों से बार-बार प्लास्टर का हिस्सा टूट कर गिरता रहता है जिससे छात्रा और शिक्षक भय के वातावरण में रहते हैं.

इतना ही नहीं, स्कूल के प्रयोगशाला के छत से भी पानी टपकता रहता है. इस कारण पढ़ाई बाधित हो रही है. वहीं भय के कारण विद्यालय में छात्राओं की उपस्थिति भी कम हो गयी है.

(इनपुट-एजेंसी)