Big NewsBreakingअपना शहरकाम की खबरफीचर

गरीबों को दिया जाने वाला 6000 क्विंटल अनाज सड़ा, एसएफसी की लापरवाही सामने आई

मोतिहारी (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार में बाढ़ का कहर जारी है. भारी बारिश, पूल के टूटने और लगातर जल स्तर के बढ़ने के वजह से बिहार के कई इलाके क्षतिग्रस्त हो गए है. 

बाढ़ की वजह से करोड़ों का नुकसान पहले ही हो गया है. इसी बीच भारी प्रशासनिक लापरवाही का मामला सामने आया है. मामला केसरिया एफसीआई गोदाम का है. यहां बाढ़ का पानी गोदाम में घुसने से दो लेयर में रखे लगभग छह हजार क्विंटल चावल सड़ने के कगार पर पहुंच गया है. 

बता दें कि बिहार सरकार ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में सामुदायिक किचन शुरू किया था जहाँ गरीबों को मुफ्त राशन मिलता. इसके लिए गोदाम में चावल और गेंहू रखे गये थे. 

संग्रामपुर के भवानीपुर गांव में गंडक नदीं के तटबंध के टूटने से बाढ़ का पानी गोदाम में घुस गया और वहां रखे गये हजारों बोरे भींग गए. गोदाम में पानी घुसने के बाद एसएफसी प्रबंधन की नींद टूटी है और पानी में डुबे अनाज को नाव के सहारे निकालनें में लगीं है. लेकिन बोरों से निकलती दुर्गंध इसके खराब होने के सबूत दे रही थी. 

एफसीआई गोदाम प्रबंधन व प्रशासनिक उदासीनता के कारण गरीबों को मुफ्त मिलने वाला लगभग छह हजार क्विंटल राशन सड़ गया. अगर गोदाम प्रबंधन व प्रशासन ने समय रहते इसपर ध्यान दिया होता तो गरीबों का निवाला बचाया जा सकता था.