हार के लिए अकेले मनोज तिवारी को ज़िम्मेदार ठहराना ठीक नहीं – गौतम गंभीर

 

पटना– क्रिकेट में अपने शानदार खेल से नाम कमाने वाले और वर्तमान में दिल्ली से भाजपा के सांसद गौतम गंभीर बिहार की राजधानी पटना के एक होटल में एक कार्यक्रम में शामिल होने के दौरान क्रिकेट के अलावा कई राजनीतिक मुद्दों पर खुलकर बोले। गौतम गंभीर ने दिल्‍ली विधान सभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के द्वारा मिली करारी हार के सवाल पर जवाब दिया कि ” हम चुनाव हारे हैं हिम्मत नहीं। हार की जिम्मेदारी हम सबकी है, हम लोगों को कन्वेंस नहीं कर पाए। अगर रिजल्ट भाजपा के पक्ष में नहीं आया तो जवाबदेही सभी की है। मेरी भी है। हम लोगों को समझा नहीं पाये। हमारे विजन से लोग नहीं जुड़ पाये। दिल्ली विधानसभा चुनाव में हार का ठीकरा दिल्ली भाजपा के कप्तान मनोज तिवारी पर फोडऩा ठीक नहीं। हार के लिए वो खुद, सारे सांसद और विधायक जिम्मेदार हैं। दरअसल, दिल्ली की जनता मुफ्त की घोषणाओं की लालच में पड़ गई है। देखना है कि चुनाव के बाद पांच साल तक केजरीवाल सरकार लड़कियों को मुफ्त स्कूटी देती है या फेल होती है।

केजरीवाल के मुफ्त में चीजें देने के सवाल पर गंभीर ने कहा कि “बीजेपी ने कुछ फ्री देने को नहीं कहा था जो भी योजनाएं फ्री चल रही है वो चलती रहेंगी। अगर लडकियों को स्कूटी या साइकिल दे रहें हैं तो वो वोट बैंक नहीं है। हमने बच्चियों को शिक्षित बनाने के लिये साइकिल की बात कहीं। आप से ज्यादा फ्री देने की बात नहीं कही थी”।

दिल्ली में शाहीनबाग में चल रहे प्रदर्शन को लेकर भी गौतम गंभीर ने अपने विचार व्यक्त किये और कहा कि “शाहीन बाग में विशेष तबके की महिलाओं का प्रदर्शन बेतुका है। पीएम नरेंद्र मोदी व अमित शाह ने साफ तौर पर कहा है कि सीएए से उनका मकसद नागरिकता छीनना नहीं बल्कि देना है, जो भारत के निवासी हैं वे हमेशा यहीं के रहेंगे। किसी को शक है तो बातचीत से समाधान करे। लेकिन, सड़क जाम कर यातायात बाधित कर लोगों को परेशान करना न्यायोचित नहीं”।

जब गौतम गंभीर से पूछा गया कि दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश की है और दिल्ली भाजपा अध्यक्ष पद के लिए आपके नाम पर विचार किया जा रहा है। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि “चुनाव के पहले भी यह चर्चा आई थी। उस वक्त भी कहा था कि यह सब काल्पनिक है और आज भी मेरा स्टैंड वही है। अगर भाजपा अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव भी देती है तो जब अध्यक्ष बनाए जाएंगे, तब सोचेंगे कि पार्टी को आगे बढ़ाने के लिए वह क्या-क्या कर सकते हैं। वे दिल्ली के ज्यादा से ज्यादा लोगों को पार्टी से जोडऩा चाहेंगे और उनके बीच पार्टी के स्टैंड को स्पष्ट करना चाहेंगे। आगे बिहार में प्रचार के सवाल पर उन्होंने कहा कि ” अगर बीजेपी चाहेगी तो मैं  बिहार में भी प्रचार अभियान में शामिल होकर बीजेपी का प्रचार करूँगा”.

गौतम गंभीर ने आगे कहा कि ” हम केजरीवाल को बधाई देते हैं और यह उम्मीद करते हैं कि वे अपनी घोषणाओं पर पांच वर्ष तक डटे रहेंगे। दिल्ली को इस तीन महीने जो फ्री मिला वो आगे भी मिलता रहे। दिल्ली की जनता से खिलवाड़ ना हो, उनका इस्तेमाल ना हो। शायद आप ने जो कैंपेन चलाया उससे जनता जुड़ी। केजरीवाल जी को मुबारक हो।