कोविड -19: पीएम की अध्यक्षता में होगी सर्वदलीय बैठक

फाइल चित्र

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण देश कहीं फिर से पूर्ण लॉकडाउन की तरफ तो नहीं बढ़ रहा है ? इसकी आशंका इसलिए बढ़ जाती है क्योंकि 4 दिसंबर को पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक सर्वदलीय बैठक होनेवाली है.

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, 4 दिसंबर को देश में कोविड -19 स्थिति पर चर्चा के लिए संभावित इस बैठक में पीएम सभी दलों के नेताओं से मिलकर कोरोना की जमीनी स्थिति का आकलन करेंगे. संसद के दोनों सदनों में पार्टियों के नेताओं को शुक्रवार 4 दिसंबर को सुबह साढ़े 10 बजे ऑनलाइन बैठक के लिए आमंत्रित किया गया है.

इस दिन होने वाली यह बैठक 24 नवंबर को आयोजित देशभर के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई प्रधानमंत्री की बैठक के तुरंत बाद हो रही है. 24 नवंबर की उस बैठक में प्रधानमंत्री ने सबों को साथ मिलकर कोविड -19 वायरस के संचरण को रोकने और सकारात्मकता दर 5% के अंदर लाने की आवश्यकता पर जोर दिया था.

उस बैठक में प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने की आवश्यकता को दुहराया था. पीएम ने सभी राज्यों से कहा था कि वे वैक्सीन कार्यक्रम की तैयारी के लिए जिला और ब्लॉक स्तर पर टास्क फोर्स या स्टीयरिंग समितियों का गठन करें.

सूत्रों के अनुसार, 4 दिसम्बर को होनेवाली इस सर्वदलीय बैठक में पीएम द्वारा कोविड -19 वैक्सीन रोलआउट के लिए सरकार की तैयारी का मुद्दा उठाने की संभावना है. पीएम पहले ही तीन टीमों से मिल चुके हैं जो पिछले हफ्ते वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोविड -19 वैक्सीन विकसित करने में शामिल हैं. सोमवार को उन्होंने तीन अन्य टीमों – जेनोवा बायोफार्मा, बायोलॉजिकल ई और डॉ रेड्डीज के साथ बातचीत की.

पिछले हफ्ते केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कोरोना महामारी की निगरानी और नियंत्रण के लिए दिशानिर्देश भी जारी किए हैं. साथ ही, इस नए दिशा-निर्देश, जो आज 1 दिसंबर से लागू हो गए हैं, में राज्यों को कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए रात के कर्फ्यू सहित स्थानीय प्रतिबंध लगाने का अधिकार दिया गया है.

बता दें, अप्रैल में प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सभी दलों के मुख्य नेताओं के साथ बातचीत की थी. उस बैठक में उन्होंने सुझाव दिया था कि मार्च में लगाए गए 21-दिन के लॉकडाउन का विस्तार करना आवश्यक हो सकता है और लोगों की जान बचाने के लिए सरकार की प्राथमिकता के बारे में बात की थी.