पटना: 1 जनवरी से 4 उड़ानें निलंबित रहेंगी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (Airports Authority of India AAI) ने शनिवार से 15 जनवरी तक जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (Jay Prakash Narayan IInternational Airport) के लिए संशोधित शीतकालीन कार्यक्रम जारी किया है.

वर्तमान में शहर के हवाई अड्डे से संचालित होने वाली मौजूदा 48 उड़ानों के मुकाबले कुल 44 उड़ानें संशोधित शीतकालीन कार्यक्रम के तहत संचालित होंगी. स्पाइसजेट (SpiceJet ) 5 जनवरी से कोलकाता-पटना-कोलकाता रूट पर नई उड़ान (SEJ 3839/3840) शुरू करेगी. पटना हवाई अड्डे से स्पाइसजेट कुल 11 उड़ानें संचालित करेगी, जबकि शुक्रवार तक इसके द्वारा संचालित 13 उड़ानें थीं.

इंडिगो शनिवार से 19 उड़ानों का संचालन करेगी, जो शुक्रवार तक उसके द्वारा संचालित 20 उड़ानों से एक कम है. वहीं गोएयर एयरलाइंस अपने नौ उड़ानों का संचालन जारी रखेगी. एयर इंडिया अपनी 5 उड़ानें चालू रखेगी, जबकि विस्तारा ने अपने शेड्यूल से बेंगलुरू की एक उड़ान को हटा दिया है और अब शाम को पटना से नई दिल्ली के लिए एक ही उड़ान का संचालन करेगी.

पटना से उड़ानों का संचालन प्रतिदिन सुबह नौ बजे से शुरू होगा और अंतिम उड़ान रात 8:15 बजे प्रस्थान करेगी. आमतौर पर दिसंबर के मध्य से कोहरे की स्थिति के कारण सर्दियों के मौसम में सामान्य रूप से 9 या 10 बजे से पहले हवाई अड्डे पर किसी भी उड़ान को उतरने की अनुमति नहीं है. इस प्रकार, अधिकांश एयरलाइंस अपनी सुबह की उड़ानों को रद्द करके और दोपहर में अपने संबंधित शीतकालीन कार्यक्रम के तहत उड़ानें जोड़कर अपने शेड्यूल में बदलाव करती हैं.

यह भी पढ़ें| प्रकाश पर्व के लिए पटना साहिब स्टेशन तैयार

जड़े में शाम की उड़ानों के समय में भी बदलाव किया जाता है. उड़ान संचालन के लिए संशोधित समय आमतौर पर फरवरी के मध्य तक जारी रहता है.

हवाई अड्डे के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बतायाकि हालांकि घने कोहरे की स्थिति अभी तक नहीं देखी जा रही है, लेकिन आने वाले हफ्तों में परिचालन में बड़े व्यवधान को रोकने के लिए एयरलाइंस ने अपने शेड्यूल में बदलाव किया है. इसके अलावा, टर्मिनल भवन के चल रहे विस्तार के कारण हमें यात्रियों के लिए और अधिक जगह मिल गई है.”

पटना हवाईअड्डे पर अधिकतर परेशान उड़ान संचालन को रनवे की छोटी लंबाई के कारण होता है, जो उस स्थिति को और बढ़ा देता है जब कोहरे के कारण दृश्यता (visibility) कम होती है.

पटना हवाई अड्डे पर 2,286 मीटर (7,500 फीट) की कुल रनवे लंबाई के मुकाबले, स्थान की कमी के कारण टेक-ऑफ के समय केवल 1,954 मीटर (6409 फीट) ही उपलब्ध रहता है. इसी कारण, उड़ानों को यहां उड़ान भरने या उतरने की अनुमति तभी दी जाती है जब दृश्यता 1000 मीटर या उससे अधिक हो. फिर भी, पटना हवाई अड्डे पर दैनिक यात्रियों की संख्या वर्तमान में 9,000-12,000 के बीच बनी हुई है.