प्रथम चरण में 30 करोड़ लोगों को लगाया जाएगा कोरोना वैक्सीन, कहा नीती आयोग के विनोद पॉल ने

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| भारत सरकार COVID-19 टीकों के लिए पहले चरण में 30 करोड़ लोगों को टीके लगाने की तैयारी कर रही है. नीती आयोग के मेम्बर विनोद पॉल ने कहा कि इन 30 करोड़ लोगों में से लगभग 26 करोड़ लोग, जो 50 वर्ष से अधिक आयु के हैं, उन्हें वैक्सीन मिलेगी.

पॉल ने कहा कि मौतों के आंकड़ों के अनुसार, भारत में 80 प्रतिशत ऐसे लोगों की मृत्यु हुई है जो 50 वर्ष से अधिक की आयु के थे. पॉल ने कहा कि कॉमरेडिटी वाले 70 प्रतिशत लोग ऐसे लोग भी हैं जो 50 साल और उससे अधिक उम्र के हैं

बता दें कि विनोद पॉल COVID-19 के लिए वैक्सीन टीकाकरण के राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह के प्रमुख हैं जो भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को सलाह देता है.

अगले दो समूहों जिनको टीकाकरण में प्राथमिकता दी जाएगी उनमें 20 मिलियन हेल्थकेयर और अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स शामिल हैं और बाकी लोग कॉमरेडिटी के साथ 50 साल से कम उम्र के हैं.

आपने इसे पढ़ा क्या – सीएम ने विधि व्यवस्था पर उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक में अधिकारियों को दिए सख्त निर्देश

पॉल ने कहा कि सुरक्षा और इम्यूनोजेनेसिटी डेटा अकेले आपातकालीन उपयोग की मंजूरी देगा. दवा नियामक को सरकार के किसी भी हस्तक्षेप से “अछूता” किया गया है ताकि इसमें कोई दखलअंदाजी न हो.

विनोद पॉल ने कहा कि टीका के लाइसेंस अप्रूव होने के बाद सरकार चंद दिनों में टीकाकरण का काम शुरू करने की स्थिति में है. “कोल्ड चेन का निर्माण कर लिया गया है तथा हमारे पास इसकी अतिरिक्त क्षमता भी है. वैक्सीनेटर को भी तैयार कर दिया गया है. एक मजबूत आईटी प्लेटफॉर्म COVID वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क (COVIN) तैयार है. हम इसे दुनिया के सामने पेश करेंगे, ”पॉल ने कहा.

सरकार ने COVID-19 वैक्सीन रोलआउट के लिए मौजूदा वैक्सीन इंटेलिजेंस और लॉजिस्टिक्स नेटवर्क eVIN को संशोधित किया है. COVIN पंजीकरण, प्रमाणीकरण, अनुस्मारक भेजने, प्रमाणीकरण, लॉजिस्टिक्स और तापमान निगरानी और टीकों की सहायता करता है.

पॉल ने कहा कि भारत में बच्चों और महिलाओं के लिए 650 मिलियन खुराक का टीकाकरण करने का अनुभव है. पॉल ने कहा कि हमारे पास 90 करोड़ लोगों के चुनाव कराने का भी अनुभव है और हम टीकाकरण के लिए उन सिद्धांतों का इस्तेमाल करेंगे.

error: Content is protected !!