ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए “स्माइल” की शुरुआत, बिहार से रेशमा ने लिया कार्यक्रम में हिस्सा

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| सोमवार का दिन ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए एक सुखद दिन साबित हुआ. आज भारत सरकार द्वारा ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए “स्माइल” नाम की योजना की शुरुआत (Centre launches ‘SMILE’ scheme for Transgenders) की. इस में राष्ट्रीय ट्रांसजेंडर परिषद की सदस्य रेशमा प्रसाद (National Transgender Council member Reshma Prasad) के नेतृत्व में बिहार से 10 ट्रांसजेंडरों ने भाग लिया.

भारत सरकार ने ट्रांसजेंडर समुदाय के विकास के लिए “स्माइल” नाम की योजना बनाई है जिसमें उनके सामाजिक, आर्थिक, शैक्षिक तथा सामाजिक विकास के साथ-साथ उन पर होने वाले भेदभाव के रोकथाम के लिए 365 करोड़ की योजना की शुरुआत की है.

इसका पायलट प्रोजेक्ट सोमवार को देश के 10 विभिन्न शहरों में शुरू किया गया जिसमें बिहार का पटना भी शामिल है. पटना के अलावे दिल्ली, बेंगलुरू, चेन्नई, हैदराबाद, इंदौर, लखनऊ, मुंबई, नागपुर और अहमदाबाद शहरों में भी यह प्रोजेक्ट शुरू किया गया.

क्या है “स्माइल”

यह योजना ट्रांसजेंडर समुदाय के साथ-साथ भिक्षुकों के कल्याण व उन्हें पुनर्वास प्रदान करने के लिए है. साथ ही, यह नौवीं कक्षा में पढ़ाई कर रहे ट्रांसजेंडर छात्रों को स्नातकोत्तर तक छात्रवृत्ति प्रदान करता है, जिससे उन्हें अपनी शिक्षा को पूरी करने में सक्षम बनाया जा सके. इसके अलावा इसमें प्रधानमंत्री-दक्ष योजना के तहत कौशल विकास और आजीविका के भी प्रावधान हैं. यह प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के साथ सम्मिलन में समग्र चिकित्सा स्वास्थ्य के जरिए यह चयनित अस्पतालों में जेंडर-रिऐफर्मेशन सर्जरी के लिए एक व्यापक पैकेज प्रदान करता है.

इस योजना का एक भाग “गरिमा गृह” (Garima Grih) दोस्ताना सफर (Dostana Safar) द्वारा संचालित की जा रही है, जहां ट्रांसजेंडर समुदाय के प्रशिक्षण तथा आवासन, भोजन की सुविधा मुफ्त में उपलब्ध कराया जाता है.

2018 में रेशमा प्रसाद द्वारा “आशा की किरण” (Asha Ki Kiran) नामक एक योजना भारत सरकार के सामने प्रस्तुत की गई थी. केंद्र सरकार द्वारा इस योजना को सोमवार को मूर्त रुप दिया गया. रेशमा ने कहा कि बिहार के लिए यह एक बहुत ही अच्छा दिन है क्योंकि बिहार के द्वारा दिए गए रास्तों को भारत सरकार भी स्वीकार कर रही है.

इस कार्यक्रम में पूरे देश से कई सांसद, प्रतिनिधि और अनुभवी ट्रांसजेंडर मौजूद थे. इस अवसर पर रेशमा प्रसाद ने मंत्री (सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता), सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्रालय के सचिव, संयुक्त सचिव एवं राष्ट्रीय समाज रक्षा संस्थान के निदेशक डॉ गिरीराज के सामने पूरे हॉल को संबोधित किया.

रेशमा ने इस योजना के लिए भारत सरकार का अभिनंदन करते हुए मंत्री का अभिवादन प्रस्तुत किया. इस योजना की शुरुआत के लिए उन्होंने पूरे ट्रांसजेंडर समुदाय की तरफ से धन्यवाद व बधाइयां दी. रेशमा ने कहा कि 5000 वर्षों के बाद आज एक नया इतिहास बन रहा है.

उन्होंने कहा कि भारत सरकार के द्वारा आज तक इस तरह की योजना नहीं बनाई गई थी. केंद्र सरकार ने इस योजना के सहारे हम ट्रांसजेंडर समुदाय को मुख्यधारा में लाने की कोशिश की है.

रेशमा ने कहा कि इस योजना को जमीन पर ले जाने के लिए सरकार ने प्रयास करना शुरू कर दिया है. अब ट्रांसजेंडर समुदाय को भी आगे आना होगा. इन योजनाओं का लाभ लेने के लिए त्वरित रूप से कंधे से कंधा मिलाकर के आगे बढ़ना होगा.