दिल्ली में ओमिक्रॉन का दूसरा मामला, वैक्सीन की दोनों डोज ले चुका है मरीज

दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| देश की राजधानी में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट (Second case of Omicron variant found in Delhi) का दूसरा मामला सामने आया है. ओमिक्रॉन से संक्रमित 35 वर्षीय व्यक्ति को लोक नायक जय प्रकाश (LNJP Hospital, New Delhi)) अस्पताल में भर्ती कराया गया है और उसे केवल कमजोरी है.

बताया जा रहा है कि यह व्यक्ति जिम्बाब्वे (Zimbabwe) से आया था और इसने साउथ अफ्रीका (South Africa) की भी यात्रा की थी. दिल्ली सरकार द्वारा अब उसके संपर्क में आए लोगों को भी ट्रेस किया जा रहा है. मरीज को कोविड टीके की दोनों डोज भी लग चुकी हैं.

बता दें कि, एलएनजेपी अस्पताल को कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित रोगियों के इलाज के लिए नामित किया गया है. इससे पहले, रविवार को तंजानिया से दिल्ली लौटा 37 वर्षीय व्यक्ति ओमिक्रॉन संक्रमित पाया गया था. वह दिल्ली में ओमिक्रॉन का पहला मरीज था और उसका भी पूर्ण टीकाकरण हो चुका है.

विदेशों से आए LNJP में भर्ती 27 यात्रियों की अब तक जिनोम सिक्वेंसिंग कराई जा चुकी है. इनमें से 25 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, जबकि दो लोगों के सैम्पल में ओमिक्रॉन पाया गया है.

देशभर में अब तक 33 लोग ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित

देश में ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले बढ़कर 33 हो गए हैं. केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट पर चिंताओं के बीच देश में मास्क का इस्तेमाल कम होने को लेकर शुक्रवार को आगाह किया और कहा कि लोग जोखिम भरा और अस्वीकार्य व्यवहार कर रहे हैं.

एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, पुणे जिले में साढ़े तीन वर्षीय बच्ची समेत महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन वैरिएंट के सात नए मामले सामने आए हैं. यह बच्ची कोविड-19 के इस नए वैरिएंट से संक्रमित देश की सबसे कम उम्र की मरीज हो सकती है. 7 नए मामलों में से चार पुणे जिले से हैं और ये सभी भारतीय मूल की नाइजीरिया से आई तीन महिलाओं के संपर्क में आए थे जिनमें पहले इस संक्रमण की पुष्टि हुई थी. गुजरात में भी ओमिक्रॉन के दो नए मामले सामने आए हैं.

वाशिंगटन विश्वविद्यालय में स्वतंत्र वैश्विक स्वास्थ्य अनुसंधान केंद्र ‘इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मीट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन’ के आकलन का हवाला देते हुए नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि देश में मास्क का इस्तेमाल कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने के पहले की अवधि की तुलना में कम हो गया है.

उन्होंने टीके की खुराक लेने और मास्क लगाने दोनों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि हम आपको आगाह करते हैं कि अभी मास्क हटाने का वक्त नहीं आया है. इस तरीके से हम फिर से खतरे की स्थिति में आ गए हैं. सुरक्षा क्षमता के नजरिए से हम निचले, जोखिम भरे और अस्वीकार्य स्तर पर हैं. हमें यह याद रखना होगा कि टीके की दोनों खुराक और मास्क अहम है.

(इनपुट: एचएच)