नीतीश-पीके की मुलाकात पर तेजस्वी यादव ने क्या कहा ?

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के मुख्यमंत्री और जद (यू) प्रमुख नीतीश कुमार (Bihar Chief Minister and JD-U Chief Nitish Kumar) के राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर (political strategist Prashant Kishor) से मिलने के एक दिन बाद, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता तेजस्वी यादव (RJD leader Tejashwi Yadav) ने उन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बेहतर होता कि मुख्यमंत्री राज्य में रोजाना हत्या और अपहरण के शिकार से मिलते.

यादव ने रविवार को संवाददाताओं से कहा, “नीतीश जी जिस किसी से भी मिलते हैं, वह उनका काम है. बेहतर होता कि वह बिहार में रोजाना होने वाली हत्याओं और अपहरण के पीड़ितों या माफियाओं द्वारा प्रताड़ित करने वालों के परिवार के सदस्यों से मिलते.”

उधर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर, जिन्हें 2020 में जद-यू से निष्कासित कर दिया गया था, के साथ अपनी मुलाकात को किसी भी राजनीतिक महत्व के होने से इनकार किया. मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कुमार ने कहा, “क्या प्रशांत किशोर के साथ मेरा रिश्ता आज से ही है? मुलाकात के पीछे कोई खास मतलब नहीं है.”

बता दें, प्रशांत किशोर को “विवादास्पद टिप्पणी करने” के लिए जद (यू) से निष्कासित कर दिया गया था जो पार्टी की नीतियों के अनुरूप नहीं थे. वह जद (यू) के उपाध्यक्ष थे और पार्टी से निष्कासन से पहले उन्हें नीतीश कुमार के करीबी के रूप में देखा जाता था.

यह भी पढ़ें| एक बिहारी ने टाटा नैनो को दिया हेलीकॉप्टर लुक, शादियों में देगा किराए पर

प्रशांत किशोर ने महागठबंधन के साथ काम किया था जिसने बिहार में 2015 का विधानसभा चुनाव जीता था. महागठबंधन में जद-यू और राजद शामिल थे लेकिन बाद में दोनों पार्टियां एक-दूसरे से अलग हो गईं. किशोर के राजनीतिक सलाहकार समूह I-PAC ने पिछले साल बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस के साथ काम किया था.