लालू के आवास पर सीबीआई की कार्रवाई पर नीतीश के बयान का क्या मतलब?

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| पटना में लालू यादव और राबड़ी देवी के आवास पर सीबीआई की छापेमारी (CBI raids on the residence of Lalu Yadav and Rabri Devi) के बाद बिहार की सियासत गरमा गई है. सीबीआई की छापेमारी के बाद राजद नेताओं के बयान आने लगे कि नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के करीब आने से बीजेपी नाराज है, इसलिए सीबीआई की छापेमारी की गई है.

राजद नेताओं के बयान के बाद बिहार की सियासत में कई सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि सीबीआई की छापेमारी के बाद जेडीयू नेताओं ने चुप्पी साध रखी है. उसके बाद मौन का अर्थ खोजा जा रहा है.

रविवार को जब नीतीश कुमार जदयू कार्यालय में कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे और उनसे पूछा गया कि क्या लालू यादव के आवास पर सीबीआई का छापा पड़ा है तो इस सवाल पर नीतीश कुमार द्वारा दिए गए जवाब के बाद मामला और भी दिलचस्प लग रहा है. नीतीश कुमार ने कहा, ‘अब उनके बारे में क्या कहें, जो कर रहा है यह वही न बताएगा, हम उनके बारे में क्या जानते हैं’.

वहीं आरसीपी सिंह (RCP Singh) के राज्यसभा जाने के सवाल पर नीतीश कुमार ने हंसते हुए कहा कि ज्यादा चिंता मत कीजिए, समय आने पर घोषणा की जाएगी. अभी क्या जल्दी है, नहीं होगा?

पेट्रोल-डीजल के दाम कम करने के दिए संकेत

वहीं, पेट्रोल-डीजल के दाम कम करने के फैसले की तारीफ करते हुए कहा कि अच्छी बात है कि दाम कम हुए हैं और यह ठीक है. वहीं, बिहार में वैट घटाने के सवाल पर नीतीश कुमार ने कहा कि हम इसपर आपस में बात करेंगे. पिछली बार तो हमने दाम कम किया ही था.

बताते चलें, रविवार को नीतीश कुमार प्रदेश कार्यालय स्थित कर्पूरी सभागार (Karpoori Auditorium at State Office) में आयोजित जनसुनवाई कार्यक्रम में पहुँचे. यहां उन्होंने बिहार के विभिन्न जगहों से आये सैकड़ों पार्टी के पुराने साथियो व पार्टी कार्यकर्ताओ से मुलाकात की एवं उनकी समस्याओं को सुन कर त्वरित निष्पादन किया. इस दौरान जदयू के माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा, शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी, भवन निर्माण मंत्री डॉ अशोक चौधरी, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा एवं जदयू के वरीय पदाधिकारीगण मौजूद रहें.