तारापुर: नीतीश कुमार की सभा में हंगामा, नीतीश ने भी खोया आपा

तारापुर / मुंगेर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा तारापुर विस सीट के उपचुनाव के लिए चुनावी सभा में उपस्थित युवाओं ने नीतीश के भाषण का हुडआउट करते हुए ‘नीतीश मुर्दाबाद’ के नारे लगाए. इस पर नीतीश कुमार अपना आपा खो बैठे.

दरअसल, मंगलवार 26 अक्टूबर को तारापुर विधानसभा क्षेत्र के टेटियाबम्बर बम्बर प्रखण्ड के जग्गनाथ उच्च विद्यालय+2 स्कूल के खेल मैदान में नीतीश कुमार की चुनावी सभा आयोजित थी. इस सभा में नीतीश के सम्बोधन के दौरान युवाओं ने हंगामा किया और नीतीश कुमार मुर्दाबाद के नारे लगाए.

नीतीश की चुनावी सभा में नीतीश कुमार का विरोध करते हुए युवाओं ने कहा कि 19 लाख रोजगार कहां गया, युवाओं को रोजगार दो नहीं तो गद्दी छोड़ दो. इसके अलावे ये युवा बेरोजगारी से जुड़ी अन्य समस्याओं से संबंधित प्रिंटेड स्लोगन लिखें कागज को हाथों में लहरा कर नीतीश के भाषण का विरोध कर रहे थे.

हंगामा कर रहे युवाओं को पुलिस ने समझाया लेकिन वे नहीं माने. उसके बाद हंगामा को शांत कराने के लिए मंत्रियों को भी मंच से उतरकर युवाओ के सामने हाथ जोड़ना पड़ा. इसके बावजूद भी जब हंगामा करने वाले युवा नहीं माने तो मुख्यमंत्री ने मंच से कहा कि करने दीजिये हल्ला, किसी ने भेजा है इन सबको.

पूरे संबोधन मची रही अफरा-तफरी

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी के सम्बोधन के बाद जैसे ही मंच संचालन कर रहे मुंगेर जदयु जिलाध्यक्ष संतोष सहनी ने उपस्थित जनसमूह को मुख्यमंत्री नितीश कुमार द्वारा संबोधन की बात बताई तो दर्शकों ने तालियां जरुर बजाई. लेकिन मंच के पास खड़े युवाओं ने नीतीश कुमार मुर्दाबाद के नारे लगाना शुरू कर दिया.

मंत्री अशोक चौधरी के समझाने पर भी नहीं माने युवा

नीतीश का संबोधन जैसे ही मंच से शुरू हुआ, मंच की बाई ओर खड़े युवाओं की टोली जोर-जोर से चिल्लाने लगी. युवाओं का हंगामा शांत करने में जब पुलिस विफल हो गई तो भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी मंच से उतरकर युवाओं के पास हाथ जोड़ शांत होने की अपील की. लेकिन वे लोग नहीं माने. वहां लगातार हो-हंगामा होता रहा. हंगामे के बीच ही नीतीश ने अपना संबोधन पूरा किया.

जैसे ही नीतीश कुमार कुछ बोलना चाहते थे, युवा जोर-जोर से चिल्लाने लगते. एक समय ऐसी हालत हो गई कि पुलिस के पदाधिकारी को आगे आना पड़ा. लेकिन युवाओं की भीड़ के सामने पुलिस की एक ना चली. नीतीश कुमार ने अपने संबोधन के बीच में ही कहा, ‘चिल्लाने दीजिए, दूसरे के द्वारा भेजा गया है’. अंत मे नीतीश कुमार ने युवाओं के उस हंगामे के बीच अपना संबोधन पूरा किया.