ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है : उड़ता बिहार – मरता भूमिहार !

पटना (TBN रिपोर्ट) :- किसी भी मुद्दे को लेकर आवाज़ उठाने के लिए लोग आजकल सोशल मीडिया का सहारा लेते हैं. बिहार में लॉकडाउन में भी अपराध चरम सीमा पर है. अपराध का एक ऐसा ही मामला आज दिनभर सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर ट्रेंड करता रहा. आइये जानते हैं क्या था पूरा मामला जो इंडिया के टॉप ट्रेंडिंग में बना रहा “उड़ता बिहार – मरता भूमिहार”.

बिहार में अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि अपराधी लॉकडाउन के दौरान सख्ती के बावजूद भी हत्या जैसे संगीन अपराध को अंजाम देने से नहीं चूकते हैं. ऐसी ही एक घटना जिले के कोंच थाना क्षेत्र के सेन्दुआरी गाँव में कल दोपहर में घटित हुई जिसमे हत्यारों ने बेख़ौफ़ होकर दिन दहाड़े अंधाधुंध फ़ायरिंग कर दो लोगों की हत्या कर दी गयी थी. इस गोलीबारी में दो और लोग बुरी तरह घायल हो गये हैं. हत्या की घटना को अंजाम देकर अपराधी मौके वारदात से फरार हो गए.

इस घटना को बिहार के सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के नेता राकेश यादव ने अंजाम दिया. बताया जा रहा है कोंच बाज़ार में कल राकेश यादव की कुछ लोगों से झड़प हुई. उसके बाद राकेश यादव और उसके गुर्गे हथियार से लैस होकर आ पहुँचे और ताबड़तोड़ फ़ायरिंग शुरू कर दी. घटना को लेकर पीड़ित पक्ष का कहना है कि राकेश यादव को स्थानीय थाना का संरक्षण हासिल है. दो दिन पहले ही राकेश यादव ने अपने घर पर पार्टी दी थी जिसमें थाने के लोगों ने लज़ीज़ खाने का लुफ्त उठाया था.

बिहार में इस दिल दहला देने वाली  घटना के बाद नाराज़ लोगों ने ट्विटर पर जमकर आक्रोश निकाला. घटना के शिकार बने लोग भूमिहार जाति के हैं. इसको देखते हुए लोगों ने उड़ता बिहार – मरता भूमिहार ट्रेंड किया.

लोगों ने कहा कि नीतीश राज की हालत भी पुरानी सरकार की तरह हो गयी है. लोगों का आरोप है कि सत्ता के संरक्षण में ही इस घटना को अंजाम दिया गया. घटना को अंजाम देने वाला राकेश यादव जदयू के एक प्रमुख नेता का बेहद करीबी है इसलिए उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई में गड़बड़ी की आशंका है.