CM की हाई लेवल मीटिंग आज

पटना (TBN रिपोर्ट) | बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज एक अणे मार्ग स्तिथ अपने आवास पर मुख्य सचिव एवं अन्य वरीय अधिकारियों, विभागीय पदाधिकारियों के साथ-साथ प्रमंडलीय आयुक्तों, पुलिस महानिरीक्षकों और जिलों के डीएम-एसपी के साथ एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक करने जा रहे हैं. 

बैठक के दौरान राज्य में तेजी से बढ़ रहे कोरोना (कोविड-19) संक्रमण तथा अन्य बीमारियों की रोकथाम को लेकर किये जा रहे कार्यों के साथ साथ बिहार में किसानों को दी जाने वाली अनुदान राशि की उच्चस्तरीय समीक्षा करेंगे.

कोरोना आपदा के चलते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार अधिकारियों से बातचीत करते हुए फीडबैक ले रहे हैं. मुख्यमंत्री के द्वारा प्रवासी मजदूरों को लेकर विभिन्न स्तर पर काम करने का निर्देश अधिकारियों को जारी कर दिया गया है. इसके साथ ही उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है कि दूसरे राज्यों में फंसे ऐसे बिहारियों को एक-एक हजार की आर्थिक मदद तुरंत भेजी जाए जिनको अभी तक आर्थिक मदद नहीं मिली है .

राज्य सरकार ने पहले चरण में केवल उनको आर्थिक मदद भेजी थी जिनका बैंक खाता बिहार में था लेकिन अब जिन बिहारियों का बैंक खाता बिहार में नहीं होगा सरकार उन्हें भी आर्थिक मदद पंहुचा रही है. 

मुख्यमंत्री द्वारा बुलाई गयी आज हाई लेवल मीटिंग में कोरोना महामारी के साथ साथ बिहार में किसानों को दी जाने वाली अनुदान राशि की समीक्षा भी करेंगे. बिहार सरकार ने मार्च और अप्रैल में हुई और असमय बारिश के कारण किसानों को जो फसल क्षति हुई उस पर अनुदान देने का फैसला किया था. इसके बारे में मुख्यमंत्री समीक्षा करेंगे कि कितने किसानों को अनुदान की राशि दी जा चुकी है और कितने किसान अभी तक अनुदान की राशि मिलने से वंचित रह गए हैं. 

बता दें  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से डिजिटल निरीक्षण की प्रक्रिया में सभी जिलों में स्तिथ क्वारंटाइन केंद्रों का निरीक्षण कर रहे हैं. इस दौरान क्वारंटाइन केंद्रों पर रह रहे प्रवासी मजदूरों से संवाद कर उनका हालचाल जान रहे हैं तथा वहां रहने में किसी तरह की समस्या तो नहीं है इसको लेकर भी जानकारी ले रहे हैं.

इस द्वौरान मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न क्वारंटाइन केन्द्रों की जाँच-पड़ताल एवं निरीक्षण करते हुए केन्द्र में रह रहे प्रवासियों से क्वारंटाइन केन्द्रों पर दी जा रही सुविधाओं के बारे में बात कर रहे हैं.  वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिये क्वारंटाइन केन्द्र पर शौचालय, पेयजल, रसोई घर, लोगों के रहने की व्यवस्था एवं केन्द्रों की साफ-सफाई का भी बारीकी से निरीक्षण किया जा रहा है.