PM केयर्स फंड में नहीं है पारदर्शिता, पूरी जानकारी पब्लिक करें – पप्पू यादव

पटना (TBN रिपोर्ट) | देशभर में लॉकडाउन के चलते कोई भी वर्ग ऐसा नहीं है जो कठिनाई में न हो, परेशानी में न हो और इस संकट की सबसे बड़ी चोट गरीब, मजदूर, श्रमिक वर्ग पर पड़ी है. रेलवे सुरक्षा बल के द्वारा पेश किये गए आंकड़ों के अनुसार 9 मई से 27 मई के बीच श्रमिक स्पेशल ट्रेनों पर 80 लोगों की मौत हुई है. इसके साथ ही ट्रेन में सफर के दौरान यात्रियों को खाना और पानी नहीं दिया जा रहा है. मजदूरों को हो रही परेशानी को लेकर  जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने केंद्र सरकार पर बड़ा हमला किया है.

पप्पू यादव ने कहा कि 1 जून से लॉकडाउन 5 की शुरुआत हो रही है. लॉकडाउन क्यों किया गया था? कोरोना के मामले रोज़ बढ़ते जा रहे है. लोग दम तोड़ रहे हैं. चीन से ज्यादा मौतें अब भारत में हो चुकी है. लॉकडाउन के कारण 12 करोड़ लोग बेरोजगार हो गए. क्वारंटाइन में मजदूर फांसी लगा रहा है और केंद्र सरकार एक साल पूरे होने का जश्न मना रही है.

जाप अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि आज मोदी जी की गलत विदेश नीतियों की वजह से नेपाल और बांग्लादेश हमें आंख दिखा है रहे हैं और चीन के साथ सीमा पर तल्ख माहौल है.

पप्पू यादव ने पीएम केयर्स फंड के बारे में बात करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने सूचना का अधिकार कानून के तहत पीएम केयर्स फंड से जुड़ी जानकारी साझा करने से यह कहते हुए मना कर दिया कि यह पब्लिक आथिरिटी नहीं है. पीएम केयर्स फंड में पारदर्शिता नहीं है. जनता को इसके बारे में जानने का पूरा अधिकार है. सरकार पूरी जानकारी पब्लिक करें.