यहां चुनाव है रोचक, कल्याण मंत्री के सामने है किन्नर उम्मीदवार

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार विधान सभा का दूसरा चरण अब नज़दीक आ रहा है. सभी प्रत्याशियों ने अपने तरीके से लोगों को आकर्षित करने की कोशिश में है. इसी बीच गोपालगंज के हथुआ विधानसभा क्षेत्र से चुनाव अब रोचक हो गया है. यहां से खड़े कल्याण मंत्री की सीधी टक्कर मैदान में उतरे एक किन्नर उम्मीदवार से है.

आपको बता दें एक ऐसे प्रत्याशी के बारे में जो पूरे बिहार में अनूठा है. गोपालगंज के हथुआ विधानसभा सीट से लोजपा के टिकट पर एक किन्नर यानी थर्ड जेंडर अपनी किस्मत आजमा रहा है. जिसके सामने सूबे के कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह हैं.

हथुआ विधानसभा से निर्दलीय और विभिन्न राजनीतिक दलों के जहां 15 प्रत्याशी चुनाव मैदान में अपना भाग्य अजमा रहे हैं, वहीं जदयू के समाज कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह और राजद के राजेश कुमार कुशवाहा के खिलाफ लोजपा प्रत्याशी व जिला पार्षद मुन्ना किन्नर उर्फ़ रामदर्शन प्रसाद भी ताल ठोक कर चुनावी मैदान में हैं.

जिले में कुल 06 विधानसभा सीटों पर 03 नवम्बर को मतदान होना है. जैसे जैसे चुनाव के तारीख नजदीक आ रही है, वैसे वैसे सभी दल के प्रत्याशियों ने अपने क्षेत्र में जनसम्पर्क अभियान तेज कर दिया है. वहीं मुन्ना किन्नर भी जनता के बीच जाकर अपने तरीके से लोगों का पैर पकड़ कर वोट मांग रहे हैं. मुन्ना किन्नर चुनाव जीतने के लिए लोगों के बीच कई वादे भी कर रहे हैं. मुना किन्नर के मैदान में उतरने से हथुआ में इस बार मुकाबला रोचक हो गया है, क्योंकि वे जदयू प्रत्याशी व समाज कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह और राजद के राजेश कुमार कुशवाहा को हथुआ विधानसभ सीट से कड़ी टक्कर दे रहे हैं.

जिला पार्षद मुन्ना किन्नर के मुताबिक वे वर्तमान में मीरगंज क्षेत्र संख्या 18 से जिप सदस्य हैं. उन्होंने अपने मद से इस क्षेत्र में कई विकास के कार्य किये हैं. उनके द्वारा इटवा पुल के पास श्मशान घाट, कई सडकें और कई गरीब लड़कियों की शादी भी करायी गयी है.

जनसंपर्क अभियान के दौरान मुन्ना किन्नर ने बताया कि पूरे बिहार में अकेले वो किन्नर है जो दबंगों के बीच विधानसभा का चुनाव लड़ रहे हैं. अगर हथुआ की जनता उन्हें चुनाव जिताती है तो उनकी पहली प्राथमिकता रिश्वतखोरी पर लगाम लगाना, अपराध पर नियंत्रण करना, अनाथ आश्रम और डिग्री कॉलेज बनवाना शामिल है. इसके अलावे वे हाई क्लास का हास्पिटल बनवायेंगे ताकि किसी भी मरीज को इलाज कराने के लिए पटना या गोरखपुर नहीं जाना पड़े. चुनाव की सरगर्मी बढ़ाते हुए मुना किन्नर ने जनता के सामने कई वादे रखे हैं. अब देखना ये है की क्या जनता इन्हें इन सब बातों पर चुनती है या नहीं.