तेजस्वी और जदयू के बीच ट्वीटर पर घमासान

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) :- बिहार में कोरोना के संकट के बीच राजनीतिक गलियारों में राज्य के बाहर फंसे हुए कामगारों और छात्रों को वापस लाने को लेकर जुबानी जंग जारी है. जुबानी जंग से बात अब शेरो शायरी तक पहुंच गई है. एक तरफ जहां नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने शेर लिखकर जदयू पर आरोप लगाया तो जदयू नेता निखिल मंडल ने भी उन्हें उसी अंदाज में जवाब दिया है.

तेजस्वी ने अपने ट्वीट में लिखा है कि,

“जो मुश्किल में घर से दूर है,

वह बिहार का मजदूर है.

वीआईपी पास हटाओ और मजदूरों को वापस लाओ”.

इसके बाद उन्होंने एक और ट्वीट किया और लिखा कि, 

“17 लाख अप्रवासी बिहारी जहां फंसे है वहां की सरकारें उन्हें भेजना चाहती हैं, लेकिन बिहार सरकार उन्हें लाना नहीं चाहती. क्या राज्य ने उन्हें मारने के लिए छोड़ दिया है? क्या यह संवेदनहीनता की पराकाष्ठा नहीं है”?

नीतीश जी के MP VIP पास लेकर दिल्ली से बिहार पहुंच सकते है, लेकिन मज़दूर नहीं.

तेजस्वी यादव के इस ट्वीट पर जेडीयू प्रवक्ता निखिल मंडल ने शायरी लिखकर जवाब दिया है. उन्होंने अपने ट्वीट में उसी शेर के अंदाज में लिखा जिस अंदाज में नेता प्रतिपक्ष ने सवाल उठाए थे.

निखिल मंडल ने अपने ट्वीट में लिखा कि,

“जो मुश्किल में बिहार से दूर है,

आपदा के समय करता वह मस्ती का टूर है.

कुछ अपना भी फर्ज निभाओ,

जिस चार्टर्ड प्लेन में जन्मदिन मनाए थे अरे भाई,

कम से कम उसी से तो बिहार वापस आ जाओ.

हाल ही में नवादा में हिसुआ के बीजेपी के विधायक अनिल सिंह द्वारा अपनी बेटी को राजस्थान के कोटा से वापस लाए जाने वाले मामले पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता तेजस्वी और राबड़ी देवी नीतीश सरकार पर जमकर निशाना साधते हुए लगातार हमले कर रहे हैं वहीं जनता दल यूनाइटेड (जदयू) की तरफ से पलटवार करते हुए जवाब मिलते रहे हैं.