तटबंधों की दिन-रात हो रही निगरानी – मंत्री

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) | बिहार में बाढ़ से निपटने के लिए की गयी तैयारियों को लेकर बिहार सरकार के जल संसाधन विभाग के मंत्री संजय कुमार झा ने कहा है कि इस वर्ष कोरोना के कारण उत्पन्न हुई  कठिन परिस्थितियों के बावजूद बाढ़ से सुरक्षा की सभी 389 योजनाओं को जल संसाधन विभाग के अधिकारियों एवं अभियंताओं ने जिस तत्परता के साथ पूरा किया और आज भी तटबंधों की दिन-रात निगरानी कर रहे हैं, उसके लिए मैं सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं.

जल संसाधन विभाग के मंत्री ने बताया है कि छत्तीसगढ़, हरियाणा, दिल्ली, यूपी, गुजरात, बंगाल आदि से जरूरी सामान आने थे. बिहार जल संसाधन विभाग के सचिव ने खुद फोन कर बंद फैक्टरियों को खुलवाया और सामानों को मंगवा कर साइट तक पहुंचाने के लिए परिवहन की व्यवस्था की. सभी कार्यों की मुख्यालय से नियमित मॉनीटरिंग की गई.

मंत्री संजय कुमार झा ने बताया है कि 2 करोड़ ईसी बैग, 1 करोड़ जियो बैग, 9 लाख नायलन क्रेट, 2.5 लाख पीपी रोप गैबियन, 26,000 मशीन वुभेन जीआई वायर क्रेट, 66,000 घन मीटर बोल्डर, 3,000 एमटी शीट पाईल, 70,000 यूक्लिप्टस बल्ला आदि मंगवाया गया. आगे उन्होंने बताया कि लॉकडाउन में ये सब दूसरे राज्यों से मंगवाना बेहद मुश्किल काम था.

इसके साथ ही उन्होंने सोशल मीडिया एवं अखबारों में छपने वाली फेक खबर पर ध्यान न देने की बात कहते हुए कहा है कि पूर्वी चंपारण में चिरैया के सरसावा गांव के पास सिकरहना नदी का बांध टूटने की खबर आज एक अखबार में छपी है. जिसमे प्रकाशित फोटो सरोगढ़ का है, जहां तटबंध निर्माण के समय स्लूइस गेट के लिए गैप छो़ड़ा गया है. सरसावा के पास स्थित बांध पूरी तरह सुरक्षित है.