जदयू-बीजेपी के बीच तल्खी बढ़ी, जदयू ने कहा अब बड़ा फैसला लेने का वक्त आ गया

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| ‘अग्निपथ योजना’ (Agnipath Scheme) को लेकर जदयू-बीजेपी में तकरार (JDU-BJP tussle) बढ़ रही है. रविवार को जदयू नेता जय कुमार सिंह (JDU leader Jai Kumar Singh) का बड़ा बयान सामने आया है. जय कुमार सिंह ने कहा है, ‘अब कड़ा फैसला लेने का समय’ आ गया है. साथ ही उन्होंने कहा है कि गठबंधन में रहना है या नहीं रहना है, यह बीजेपी को तय करना है.

रविवार शाम जदयू के बड़े नेताओं की एक बैठक के बाद जय कुमार सिंह ने दो टूक कह दिया है कि बीजेपी को गठबंधन में रहना है, या नहीं रहना है, इसका फैसला बीजेपी करे. क्योंकि अब बड़े फैसले लेने का वक्त आ गया है. यह बैठक सीएम निवास पर हुई थी.

बता दें, रविवार को सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के आवास पर हुई इस बैठक में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह, संसदीय बोर्ड के चेयरमैन उपेन्द्र कुशवाहा, ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव, शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी शामिल रहे.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ‘अग्निपथ योजना’ के पहले से ही दोनों दलों में बात दबी जुबान और इशारों में हो रही थी. लेकिन ललन सिंह के शनिवार को सीए बयान के बाद आज जय कुमार सिंह के बयान से दोनों दलों के बीच बढ़ चुकी दरार पूरी तरह से सामने आ गई है. और यह दरार एक नए लेवल तक पहुँच चुकी है.

गठबंधन को पूरा सम्मान मिल रहा

जदयू ने कहा है कि राज्य में गठबंधन और बीजेपी को पूरा सम्मान मिल रहा है और इसी कारण यहां दो-दो डिप्टी सीएम हैं और दोनों सहयोगी दल बीजेपी के ही हैं.

बात दरअसल बीजेपी द्वारा उपेन्द्र कुशवाहा के बारे में दिया गया वो बयान है, जिसमें कुशवाहा को मंथरा कहा गया, को लेकर जदयू में काफी आक्रोश है. इस बयान पर जय कुमार सिंह ने कहा है कि जब हमारे नेता के बारे में इस तरह का भाषा का प्रयोग किया जाएगा तो हमारी पार्टी कड़ा निर्णय लेने को बाध्य हो जाएगी.

संयम बिगड़ा तो कुछ भी हो सकता है

सिंह ने कहा, ‘राजनीति और सरकार संयम से चलती है. यदि गठबंधन के सहयोगी दल का संयम बिगड़ गया तो कुछ भी हो सकता है. हम सरकार ढंग से चला रहे हैं और सुंदर, बेहतर बिहार के लिए काम कर रहे हैं’.

जय सिंह ने आगे कहा कि यदि बीजेपी को लगता है कि हम (जदयू) बिहार में ठीक-ठाक काम नहीं कर रहे हैं, तो फिर उनको निर्णय लेने की जरूरत है कि गठबंधन में रहना है या नहीं रहना है.

यह भी पढ़ें| स्पाइसजेट के विमान में बीच हवा में लगी आग, इमरजेंसी लैंडिंग, सभी 185 यात्री सुरक्षित

यह सवाल पूछने पर कि अब बिहार की राजनीति में कुछ नई चीजें हो सकती हैं, उन्होंने कहा कि यदि इस तरह की बातें चलती रहीं तो नई चीजें जरूर हो सकती हैं.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने लगाया था आरोप

बता दें, सेना में भर्ती की नई स्कीम ‘अग्निपथ’ (Agnipath Scheme) के ऐलान के बाद से ही बिहार हिंसक प्रदर्शनों में जल रहा है. इस हिंसा को रोकने की बजाए बीजेपी (BJP) और जदयू (JDU) के बीच खींचातानी और आरोप-प्रत्यारोप जारी है. इससे यह लगता है कि सत्ताधारी बीजेपी और गठबंधन साथी जेडीयू में सब ठीक नहीं चल रहा है.

इसी कड़ी में शनिवार को बिहार बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष द्वारा एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा गया था कि राज्य में अग्निपथ योजना के विरोध में जो हिंसा हो रही है, उसमें सिर्फ भाजपा को टारगेट किया जा रहा है. इसे जल्द रोका जाए, नहीं तो फिर किसी के लिए ठीक नहीं होगा.

इसके पलटवार में, जदयू अध्यक्ष ललन सिंह ने कहा था कि कि संजय जायसवाल को आखिर प्रशासन क्यों टारगेट करेगा. संजय जायसवाल अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं. ललन ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार गुड गवर्नेंस के लिए जाने जाते हैं. वो जानते हैं कि सरकार कैसे चलती है.