मामला एम्बुलेंस से शराब बरामदगी का, नेता प्रतिपक्ष ने पूछा.. यही शराबबंदी है क्या?

पटना / छपरा (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्य में पंचायत चुनाव की प्रक्रिया शुरू है. इसको लेकर शराबबंदी पर सरकार ने पुरी तरह नजर रखा है. लेकिन पूर्ण शराबबंदी के बावजूद राज्यभर में लगातार शराब बरामद हो रही है. बुधवार को नीतीश सरकार की शराबबंदी पर एक बार फिर फजीहत हुई जब एक एम्बुलेंस से 280 लीटर देसी शराब पकड़ी गई.

यह मामला तब बड़ा बन गया है जब पता चला कि वह एम्बुलेंस बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के फंड से खरीदी गई थी. इसपर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर बड़े सवाल खड़े किये हैं.

तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार शराबबंदी लागू करने वालों से यह सवाल उनसे किया जाना चाहिए कि आखिर एक सांसद के फंड से चल रही एंबुलेंस में शराब कैसे पाई गई. तेजस्वी ने कहा कि हम बोलेंगे तो लोग को दूसरी जगह ले जाएंगे.

Also Read|सांसद निधि के एम्बुलेंस से शराब बरामद, पप्पू यादव ने रूडी पर साधा निशाना

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि राज्य में शराबबंदी कानून और इसके दावों के बीच की सच्चाई जनता देख रही है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार का भट्ठा बैठा दिया है और वे पूरी तरह से फेल हो चुके हैं.

तेजस्वी से जब यह पूछा गया कि क्या नीतीश कुमार बीजेपी के दबाव में हैं, तब उन्होंने जवाब कि यह तो नीतीश जी ही बता सकते हैं. साथ में उन्होंने कहा कि यह सच्चाई है कि बिहार में शराबबंदी के सारे दावे खोखले हैं. यहां सरकार यह दावा करती है कि वह ना तो किसी को सताती है और ना बचाती है लेकिन सच्चाई यह है कि ये एक जुमला के सिवाय और कुछ भी नहीं है.

बताते चलें, बुधवार सुबह छपरा में भगवान बाजार थाना पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छपरा-सिवान मुख्यमार्ग पर थाना क्षेत्र के श्यामचक मुहल्ले में 280 लीटर देसी शराब से लदी एक एम्बुलेंस जब्त की थी. यह एम्बुलेंस बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के सांसद कोष से 2019 में की गई थी.

बरामद एम्बुलेंस के ड्राइवर राकेश राय को पुलिस द्वारा मौके से गिरफ्तार किया गया. वह डोरीगंज थाना क्षेत्र के चकिया गांव का निवासी बताया जा रहा है. जबकि इस एम्बुलेंस पर शराब तस्करी में शामिल एक तस्कर वहां से फरार हो गया.