तेजस्वी ने फिर कहा, नीतीश जी थक चुके हैं..

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार विधानमंडल में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक बार फिर नीतीश कुमार को “थका” बोलकर राजनीति तेज कर दी है. तेजस्वी ने यह ‘शब्द’ तब इस्तेमाल किया है जब जदयू ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की बात पर यह कहा है कि अब विशेष राज्य का दर्जा मिलना मुश्किल लग रहा है.

तेजस्वी ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा नहीं दिला पाए वो मुख्यमंत्री बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्या दिला पाएँगे? क्या यही 40 में से 39 सांसदों वाला डबल इंजन है? मैंने पहले ही कहा था नीतीश जी थक चुके हैं. अब तो उनकी पार्टी स्वयं मान रही है कि पार्टी भी थक चुकी है”.

अपने इस हालिया बयान के साथ तेजस्वी यादव ने यह भी कहा कि नीतीश कुमार को अब सिर्फ कुर्सी की चिंता है. इसीलिए अपमान और विरोधाभास सहते हुए कुर्सी से चिपके हैं.

Also Read| मॉर्निंग वॉक पर निकले 7 लोगों को रौंदा, 2 की हुई मौत

तेजस्वी यादव के इस बयान से सियासी गलियारे में बवाल मच गया है. नेता प्रतिपक्ष ने कहा है कि 2024 के लोकसभा चुनाव में अगर महागठबंधन को बिहार की 40 में से 39 सीटें मिलती है तो जो भी प्रधानमंत्री बनेंगे, वह स्वयं पटना में आकर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की घोषणा करेंगे. तेजस्वी कहते हैं, “हम नीति, सिद्धांत, सरोकार, विचार और वादे पर अडिग रहते हैं. हमारी रीढ़ की हड्डी सीधी है, हम जो कहते हैं वह करते हैं.”

तो एनडीए छो़ड़ दे जदयू

इससे पहले महागठबंधन के घटक दल आरजेडी और कांग्रेस ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के जदयू के प्रयासों पर तंज कसा था. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा ने आरोप लगाया था कि जेडीयू-बीजेपी सरकार शुरू से ही इस मुद्दे पर राजनीति कर रही है. प्रेमचंद मिश्रा ने कहा था कि विशेष राज्य के दर्जे के सवाल पर जब केंद्र सरकार नीतीश कुमार की बात नहीं मान रही है तो जेडीयू को एनडीए गठबंधन से अलग हो जाना चाहिए.

बताते चलें, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के लिए लंबे समय से केंद्र सरकार पर दबाव बनाया जा रहा है. इसके लिए नीतीश कुमार दिल्ली में भी रैली कर चुके हैं. लेकिन बीजेपी के नेता कह चुके हैं कि नीति आयोग ने विशेष राज्य के दर्जे के प्रावधान को खत्म कर दिया है.