तेजप्रताप यादव बैठे धरना पर, कहा जब तक लालू नहीं आएंगे वे हटेंगे नहीं

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| तेज प्रताप यादव अपने सरकारी आवास के बाहर धरने पर बैठ गए हैं. तेज प्रताप यादव का कहना है कि मैं अपने नेता के इंतजार में धरने पर बैठा हूँ. आरएसएस के द्वारा रोका गया है हमको, हम अपने नेता के स्वागत के लिए तैयार थे वेलकम करने के लिए और हमारे नेता आएंगे तब न उठेंगे. उनके साथ उनके संगठन, छात्र जनशक्ति परिषद के कार्यकर्ता भी धरना पर बैठ गये हैं.

“हमें RJD से कोई लेनादेना नहीं है, कोई मतलब नहीं है। आज खुशी का इतना बड़ा मौका था, सब को एक होना था लेकिन ऐसी परिस्थिति में भी हमें बेइज्ज़त किया गया। एयरपोर्ट पर हमें जगदानंद सिंह ने ठेलने का काम किया। ये कैसा रवैया है? तुम RSS वाले हो” – यह बात लालू (Lalu Yadav) के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने कही.

साथ ही, तेजप्रताप ने कहा कि रविवार को एयरपोर्ट पर अपने पिता को लाने के दौरान उनके साथ धक्का मुक्की किया गया. तेज प्रताप यादव ने कहा, “मुझे शुरू से पिता के नहीं आने को लेकर कमी खलती रही. पार्टी से या संगठन से कोई मतलब नहीं है. लालू यादव हमारे पिता हैं और आजीवन हमारे पिता ही रहेंगे. मैं हमेशा उनका आदर करुंगा. आज खुशी का इतना बड़ा मौका था और सबको एक होना था लेकिन इस अवसर पर भी मुझे बेइज्जत किया गया है.”

यह भी पढ़ें| लालू पहुंचे पटना, तेजप्रताप ने कहा – गीदड़ों से कह दो बाहर न निकलें…शेर आ रहा है

तेज प्रताप यादव ने कहा, “एयरपोर्ट पर जगदानंद सिंह ने मुझे धक्का दिया. यह सबने देखा है कि किस तरह हाथ से हटो-हटो किया जा रहा था. तुम आरएसएस वाले हो. जब तक हम तुमको पार्टी से निकालेंगे नहीं, तब तक हमको आरजेडी से कोई मतलब नहीं है. छात्र आरजेडी में जो गुंडों पल रहे हैं उनके द्वारा ठेलने का काम किया गया. यह सब पिता जी देखेंगे तो तुरंत एक्शन लेंगे. जगदानंद सिंह, सुनील सिंह और संजय भी था. ये लोग आगे-पीछे मंडरा रहा था. इन सब ने मुझे एयरपोर्ट पर अजीब तरीके से देखा है.”

दरअसल, लालू के पटना आने पर तेजप्रताप उन्हें अपने घर ले जाना चाह रहे थे. अपने आवास के बाहर मुख्य द्वार पर तेजप्रताप ने गुब्बारों से डेकोरेशन कराया था. गेट पर लिखाया कि welcome to my father… लेकिन लालू उनके आवास पर नहीं गए.

तेजप्रताप ने एक बार फिर यह बात कही कि उनके पिता को बंधक बनाया गया है. उन्होंने कहा कि आरएसएस के एजेन्ट लोगों के द्वारा हमारे पिता को बंधक बनाकर रखने का काम किया गया है. उन्होंने यहां तक कह दिया कि अब उनका राजद से कोई नाता नहीं रह गया है. तेजप्रताप ने कहा है कि जब तक उनके पिताजी ही उनके घर नहीं आएंगे उनसे नहीं मिलेंगे तब तक वे धरना पर बैठे रहेंगे.