तेजप्रताप यादव ने बनाया अपना संगठन, नाम रखा ‘छात्र जनशक्ति परिषद’

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| लालू के बड़े बेटे तथा आरजेडी विधायक तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने अपना अलग संगठन बना लिया है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह से कुछ दिनों पहले हुए तनातनी के बाद तेजप्रताप ने जिस संगठन को बनाया है उसका नाम रखा है ‘छात्र जनशक्ति परिषद’. प्रशांत प्रताप को इस संगठन का अध्यक्ष बनाया गया है. आर्यन राय को उपाध्यक्ष और पीयूष को महासचिव बनाया गया है.

रविवार को शिक्षक दिवस के मौके पर तेजप्रताप यादव ने अपने सरकारी आवास में कार्यक्रम आयोजित कर नए संगठन का ऐलान किया. बताया जाता है कि यह संगठन बिहार के बाहर भी काम करेगा. यूपी विधानसभा चुनाव में भी संगठन सक्रिय रहेगा. वहां की सरकार की खामियों को उजागर करेगा. छात्रों के पक्ष में काम करने के साथ-साथ अन्य पहलुओं को भी ध्यान में रखा जाएगा.

गांव-गांव तक होगा संगठन का विस्तार

तेजप्रताप ने कहा कि ‘छात्र जनशक्ति परिषद’ मुख्य रूप से छात्रों की समस्याओं के साथ स्वास्थ्य एवं कानून से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए आंदोलन करेगा. इस संगठन का विस्तार गांव-गांव तक किया जाएगा. इतना ही नहीं बल्कि ‘छात्र जनशक्ति परिषद’ की पंचायत चुनाव में भी सक्रिय भागीदारी होगी. संगठन के सदस्य पंचायत का चुनाव भी लड़ सकते हैं.

Also Read| तेजप्रताप का पटना इस्कॉन मंदिर प्रबंधन पर गंभीर आरोप, कहा महिलाओं व बच्चों का हो रहा शोषण

नए संगठन पर बीजेपी के प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि, “आदरणीय लालू प्रसाद यादव जी ने सामाजिक न्याय का ढिंढोरा तो खूब पीटा लेकिन वे अपने परिवार में ही न्याय नहीं कर सके. पारिवारिक सदस्यों के बीच वरिष्ठता के लिहाज से उन्होंने उनकी सम्मानजनक भूमिका तय नहीं की. अब बड़ी बेटी मीसा भारती जी और बड़े बेटे तेजप्रताप जबरन धकिया कर परिवार और राजनीति के सिस्टम से बाहर कर दिए गए हैं. अब जो उन्होंने नया संगठन बनाया है वह छात्रों के नाम से बनाया है, लेकिन दुर्भाग्य है कि उन्होंने खुद अच्छी शिक्षा ठीक ढंग से नहीं प्राप्त की. अब बोगस विद्यार्थी भला छात्रों का संगठन चलाएगा क्या? तेजप्रताप से कई बार सहानुभूति होने लगती है. वह सफल होते तो नहीं दिखते हैं लेकिन उनके अपने वजूद स्थापित करने प्रयास के लिए शुभकामनाएं देता हूं.”
(सौ:एबी)