तेजप्रताप ने लालू के पटना आने पर पार्टी में “गलतियों” को उजागर करने की खाई कसम

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद के बड़े बेटे और विधायक तेज प्रताप यादव, जो अपनी पार्टी के कुछ नेताओं के खिलाफ जुझारू रहे हैं, ने मंगलवार को अपने पिता के पटना लौटने पर पार्टी में “गलत कामों” को उजागर करने की कसम खाई है.

बता दें, राजद प्रमुख लालू यादव इस साल अप्रैल में चारा घोटाला मामलों में जमानत पर रिहा हुए हैं. रिहा होने के बाद से वह नई दिल्ली में कई बीमारियों से उबर रहे हैं. राजद प्रमुख इस महीने के अंत में 30 अक्टूबर को बिहार की दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए प्रचार करने की उम्मीद है.

“उन्हें आने दीजिए, मैं अपने पिता को दिखाऊंगा कि पार्टी में क्या हो रहा है”. तेज प्रताप यादव (32) ने संवाददाताओं से कहा, लेकिन इस बारे उन्होंने विस्तार से कुछ नहीं बताया.

यह भी पढ़ें| बिहार उपचुनाव में कन्हैया और तेजस्वी होंगे एक दूसरे के सामने, होगी दोनों की अग्नि परीक्षा

कहा जाता है कि बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप राजद की राज्य इकाई के अध्यक्ष जगदानंद सिंह और छोटे भाई तेजस्वी प्रसाद यादव, जो पार्टी के उत्तराधिकारी हैं, से नाराज चल रहे हैं. साथ ही, तेज प्रताप का नाम आगामी उपचुनाव के लिए राजद के स्टार प्रचारकों की सूची में नहीं दिया गया है.

रविवार को, तेज प्रताप ने अपनी मां और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से मिलने से भी इनकार कर दिया था, जो दिल्ली से पटना में उतरने के बाद सीधे उनके आवास पर पहुंच गईं थी. हालांकि, मंगलवार शाम को वे अपनी मां से मिलने उनके आवास पर गए थे.

इस बीच, तेजस्वी ने आगामी उपचुनावों के लिए पार्टी के अभियान और रणनीति पर चर्चा करने के लिए मंगलवार को पटना में वरिष्ठ नेताओं और पदाधिकारियों की एक बैठक की अध्यक्षता की.

इस बैठक के बाद अपने पदाधिकारियों और विधायकों को टास्क सौंपकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) दिल्ली रवाना हो गए हैं. संभवतः दशहरा बाद तेजस्वी यादव अपने पिता व राजद सुप्रीमो लालू यादव के साथ पटना लौटेंगे और चुनाव प्रचार की शुरुआत करेंगे.