CM के हस्‍तक्षेप के बाद शिक्षकों की हड़ताल खत्‍म

पटना (TBN रिपोर्ट) :- बिहार के हड़ताली शिक्षकों से शिक्षा मंत्री कृष्णंदन प्रसाद वर्मा ने हड़ताल समाप्त कर वापस लौटने का अनुरोध किया था. लेकिन इसके बावजूद भी शिक्षक हड़ताल ख़त्म न करने की जिद पर अड़े हुए थे.

अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हस्तक्षेप के बाद, इसी साल 17 फरवरी से चली आ रही बिहार नियोजित प्रारंभिक समन्वय समिति की और 25 फरवरी से शुरू हुई बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ की हड़ताल आज सोमवार को समाप्‍त हाे गई है.

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ माध्‍यमिक शिक्षक संघ की वार्ता के बाद हड़ताल को वापस लेने की घोषणा की गई. बिहार माध्‍यमिक शिक्षक संघ के अध्‍यक्ष केदार पांडेय ने बताया कि मुख्‍यमंत्री के साथ तीन मांगों पर मुख्‍य रूप से चर्चा हुई, जिसे सरकार की ओर से मान लिया गया है. इसके बाद संघ की ओर से हड़ताल वापस लेने की घोषणा की गई.

बिहार माध्‍यमिक शिक्षक संघ की ओर से मिली जानकारी के अनुसार  सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हस्तक्षेप के बाद हड़ताल खत्‍म हो गई. मुख्‍यमंत्री के बुलावे पर माध्‍यमिक शिक्षक संघ के अध्‍यक्ष केदार पांडेय समेत अन्‍य संघ के लोग सीएम आवास पहुंचे.

संघ के साथ नीतीश की काफी देर तक वार्ता चली. सरकार ने हड़ताल अवधि में जिन शिक्षकों पर दंडात्मक कार्रवाई की थी, वो वापस लेगी और हड़ताल अवधि का वेतन भुगतान होगा. इसके अलावा हड़ताल अवधि मेें जो कक्षाएं बाधित हुई हैं, उसका समायोजन छुट्टियों की अवधि में किया जाएगा. कई अन्‍य मांगों पर लॉकडाउन के बाद विचार किया जाएगा. 

बता दें बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के लगभग चार लाख नियोजित शिक्षक समान काम, समान वेतन के साथ सात सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थे.

हड़ताल ख़त्म न करने की जिद पर अड़े हुए शिक्षकों के सामने अब भूखमरी जैसी समस्या आने के बाद भी शिक्षक हड़ताल को जारी रखे हुए थे और हड़ताली शिक्षक पुराने शिक्षकों की तरह वेतनमान की मांग कर रहे थे.

हालांकि इस बीच बिहार सरकार के द्वारा हड़ताली शिक्षकों के सामने विभिन्न तरह के प्रस्ताव भी रखे गए थे लेकिन शिक्षकों की ओर से नकारे जा चुके थे.

वहीँ अब इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने  बिहार माध्‍यमिक शिक्षक संघ के साथ वार्ता की जिसके फलस्वरूप आज हड़ताल खत्‍म हो गई है.