बिहारियों की वापसी को लेकर सुशील मोदी का बड़ा बयान

पटना (TBN रिपोर्ट) :- लॉकडाउन के दौरान अपने घर से दूर परदेस में फंसे हुए लोगों को तमाम मुसीबतें झेलनी पड़ रहीं हैं. लॉकडाउन के चलते बिहार के लाखों लोग दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं.  लेकिन अब केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शर्तों के साथ लॉक डाउन के बीच मजदूरों, तीर्थ यात्रियों, पर्यटकों और छात्रों सहित अन्य लोगों को जाने की मंजूरी दे दी है. वहीँ अब लोगों को बापस बिहार लाने के मुद्दे को लेकर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का बड़ा बयान सामने आया है.

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि, “केंद्र सरकार ने बिहार की मांग को मान लिया है इसलिए केंद्र सरकार को धन्यवाद. आगे सुशील मोदी ने कहा कि “देखिये रेल चलाने की अनुमति तो दी नहीं है भारत सरकार ने. इसलिए बसों से ही लोग आयेंगे. हमारे पास कहां इतनी बसें हैं कि इतने राज्यों में लोग फंसे हैं जिन्हें लाया जा सके. जो लोग जहां से आयेंगे वहां की राज्य सरकारें उसकी व्यवस्था करेंगी. फिर राज्य सरकारों के बीच सहमति बनेगी. जिन राज्यों से लोग आने वाले हैं उन्हीं राज्यों के लोग व्यवस्था करेंगे. चूंकि वहां के लोग भी चाहते हैं कि लोग अपने घर वापस चले जायें.”

सुशील मोदी ने कहा “हम लोग इंतजार कर रहे हैं केंद्र सरकार के दिशा निर्देश का. हम अपनी सीमा पर आने वाले लोगों की स्क्रिनिंग की व्यवस्था करेंगे.उसमें जो लोग संक्रमित लगेंगे उनकी और जांच पड़ताल करना और इलाज की व्यवस्था करना, ये सब हम करेंगे. जो गाइडलाइंस है भारत सरकार की उसी गाइडलाइंस के अनुरूप ही हमलोग कोई निर्णय लेंगे.” इसके साथ ही  सुशील मोदी ने कहा कि, “किन राज्यों में कितने लोग फंसे हैं. कौन लोग आना चाहते हैं. मुख्य सचिव इस पर बैठक कर रहे हैं. उसके बाद रणनीति तैयार की जायेगी”.