बिहार की नई सरकार का शपथ ग्रहण समारोह कल : राजद

टना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| नए गठबंधन सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल (Rashtriya Janata Dal) के एक ट्वीट के अनुसार, जद (यू) नेता नीतीश कुमार (JD-U leader Nitish Kumar) के बुधवार दोपहर फिर से बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने की संभावना है.

पार्टी ने अपने आधिकारिक हैंडल से एक ट्वीट में कहा, “माननीय मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह कल दोपहर 2 बजे राजभवन में होगा.” हालांकि, राजद के इस ट्वीट में किसी के नाम का उल्लेख नहीं है. लेकिन, यह उम्मीद की जा रही है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री होंगे जबकि तेजस्वी यादव उनके डिप्टी होंगे.

तेज गति से बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के बीच एक दिन के अंदर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दो बार राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात की. पहले एनडीए के मुख्यमंत्री के रूप में अपना इस्तीफा सौंपने के लिए और फिर राजद के नेतृत्व वाले ‘महागठबंधन’ (Mahagathbandhan) के नेता चुने जाने के बाद.

नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल को 164 विधायकों की एक सूची सौंपी है. अब राज्यपाल यह तय करेंगे कि शपथ कब ली जा सकती है. बता दें, राज्य विधानसभा की प्रभावी ताकत 242 है और जादुई आंकड़ा 122 है.

बीजेपी ने प्रेस कांफ्रेंस में नीतीश को जमकर कोसा

इधर, भारतीय जनता पार्टी के नेता रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने और राज्य में विपक्षी दलों के साथ सरकार बनाने का दावा पेश करने के जद (यू) नेता नीतीश कुमार के फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि ‘कुमार ने बिहार की जनता के जनादेश का अपमान किया है.’

मंगलवार को पटना में एक संक्षिप्त प्रेस को संबोधित करते हुए, प्रसाद ने कहा, “नीतीश कुमार हमें छोड़कर चले गए हैं और कहा है कि भाजपा उनकी पार्टी को नष्ट करने की कोशिश कर रही थी. भाजपा ने उन्हें कई बार केंद्रीय मंत्री बनाया. उन्हें मुख्यमंत्री भी बनाया गया. उन्होंने फिर से क्यों किया. उन्होंने 2015 में राजद के साथ गठबंधन पर दोबारा क्यों सोंचा और फिर 2017 में बीजेपी में क्यों आ गए?’

भाजपा सांसद रविशंकर प्रसाद ने कहा, “नीतीश कुमार बिहार के लोगों के जनादेश का अनादर कर रहे हैं. यह निराधार आरोप है कि भाजपा जद (यू) को नष्ट करने की कोशिश कर रही है.”

नीतीश ने फिर से सीएम पद के लिए दावा ठोंका

मंगलवार को बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के कुछ घंटों बाद नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने बिहार के राज्यपाल को 164 विधायकों की सूची सौंपी है और नई सरकार बनाने का दावा पेश किया है.

नीतीश ने संवाददाताओं से कहा, “हमने राज्यपाल को 164 विधायकों की सूची सौंपी और नई सरकार बनाने का दावा पेश किया. वह हमें बताएंगे कि कब शपथ ली जा सकती है.”

बता दें, जद (यू) प्रमुख नीतीश कुमार को महागठबंधन (Grand Alliance) के नेता के रूप में चुना गया है. नीतीश कुमार ने बिहार में जद (यू) और भाजपा के बीच गठबंधन को खत्म कर दिया और मंगलवार को राज्य के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया.

नीतीश कुमार ने सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद तेजस्वी यादव से मुलाकात की और दोनों ने सरकार पर दावा पेश करने के लिए राज्यपाल से मुलाकात की. बिहार के राज्यपाल से मुलाकात के बाद जदयू नेता नीतीश कुमार ने कहा, ‘हमें सात पार्टियों और एक निर्दलीय विधायक का समर्थन है. समर्थन पत्र पर सभी ने हस्ताक्षर किए हैं.’

आरसीपी ने इसे बताया जनादेश के साथ विश्वासघात

नीतीश कुमार से अनबन के बीच जद (यू) छोड़ने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह ने कहा कि जद (यू) का भाजपा से नाता तोड़ना और तेजस्वी यादव से हाथ मिलाना 2020 के जनादेश के साथ विश्वासघात है.

इससे पहले आज जदयू की बैठक में पार्टी के सभी विधायकों और सांसदों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के फैसले का समर्थन किया और कहा कि वे उनके साथ हैं. उन्होंने यह भी कहा कि वे कुमार को उनके फैसले में समर्थन देना जारी रखेंगे.