आरजेडी ने आरोपों को बताया गलत, कहा ये हैं विक्षिप्त मानसिकता वाले लोग

File Photo

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार की राजनीति में फिर से आरोप प्रत्यारोपों का दौर जारी है. पटना सिविल कोर्ट के सीजेएम द्वारा नेता प्रतिपक्ष सहित छह लोगों पर एफआईआर दर्ज किए जाने के आदेश के बाद राजनीति में ज्वार आ गया है. सत्ता पक्ष तेजस्वी पर जहां आरोपों की बौछार कर रहा हैं, वहीं आरजेडी ने उन आरोपों को गलत बताया है.

सभी आरोपों को नकारते हुए आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि कुछ विक्षिप्त मानसिकता वाले लोग सस्ती लोकप्रियता के लिए इस तरह का काम करते हैं. कानूनी तौर पर इसका जवाब दिया जाएगा. आरोप सर्वथा गलत है.

बता दें, पटना सिविल कोर्ट के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (CJM) विजय किशोर सिंह ने बिहार विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav), मीसा भारती (Misa Bharti) सहित छह लोगों के खिलाफ कोर्ट ने एफआईआर (FIR) दर्ज करने का आदेश दिया है. इन सबों पर पिछले लोकसभा चुनाव में टिकट देने के नाम पर पांच करोड़ रुपये ठगने का आरोप है. तेजस्वी पर तो जान से मारने की धमकी देने का भी आरोप है.

इसी को लेकर सत्ता पक्ष के नेतागण विपक्ष पर जमकर हमला बोल रहे हैं. एक ओर जहां नीतीश सरकार के मंत्री नीरज कुमार बबलू लालू परिवार के लोगों को “जाली” कह रहे हैं, वहीं दूसरी ओर जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार कहते हैं कि लालू परिवार के लिए सिर्फ “लक्ष्मीदान और भूदान” ही महत्वपूर्ण है.

Also Read| नीरज ने कहा “इनके” लिए महत्वपूर्ण है लक्ष्मीदान और भूदान

इधर, सभी आरोपों को नकारते हुए आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी (Mrityunjay Tiwari) ने कहा कि कुछ विक्षिप्त मानसिकता वाले लोग सस्ती लोकप्रियता के लिए इस तरह का काम करते हैं. ये वही लोग हैं जो खुद को होर्डिंग बैनर लगाकर प्रधानमंत्री का उम्मीदवार बताते हैं. इनके आरोप पर न्यायालय ने कैसे संज्ञान लिया, ये तो वो ही समझे. लेकिन ये सबको पता है कि ये जो आरोप लगाए गए हैं वो बकवास हैं , बेबुनियाद हैं.

उन्होंने कहा, ” ये छपास रोग से पीड़ित लोग हैं , जो सस्ती लोकप्रियता के लिए ऐसा काम कर रहे हैं. आरोपों में कितना दम है, इसकी जांच न्यायालय को करनी चाहिए. उन्हें आरोप लगाने वाले की हैसियत भी देखनी चाहिए कि वो पांच करोड़ देने के योग्य हैं या नहीं. बिना सबूत के आरोप लगाने पर संज्ञान लेना सही नहीं है. कानूनी तौर पर इसका जवाब दिया जाएगा. आरोप सर्वथा गलत है.”

तेजस्वी ने ये कहा

इस मामले पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि यदि वे हमपर आरोप लगा रहे है तो आरोप लगाने वाला 5 करोड़ कहां से लाए थे, बताएं. उन्होंने कहा कि यदि आरोप लगा है तो इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और यदि आरोप सिद्ध नहीं होता है, तो वे क्या करेंगे? तेजस्वी ने कहा कि विधानसभा चुनाव के समय भी मुझपर हत्या का भी आरोप लगा था, लेकिन उसमें क्या हुआ?