बिहार में संकट में एनडीए? आरसीपी सिंह के इस्तीफे से बीजेपी-जद (यू) में बढ़ी दरार !

टना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| जनता दल यूनाइटेड (JDU) से आरसीपी सिंह (RCP Singh) के इस्तीफे के बाद बिहार में जदयू और बीजेपी (BJP) के बीच दरार बढ़ती दिख रही है. जदयू ने बीजेपी पर आरसीपी सिंह के साथ साजिश करने का आरोप लगाते हुए भाजपा पर परोक्ष हमला किया.

बता दें, भ्रष्टाचार के आरोपों पर पार्टी द्वारा नोटिस भेजे जाने के बाद शनिवार को आरसीपी सिंह ने जदयू छोड़ दिया था. उनके इस्तीफे के बाद, आरसीपी सिंह ने जदयू को “डूबता हुआ जहाज” (RCP Singh called JDU “a sinking ship”) कहा था.

इसके जवाब में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन (ललन) सिंह (JDU national president Rajiv Ranjan alias Lalan Singh) ने कहा, ‘जदयू डूबता जहाज नहीं है, यह एक बढ़ता जहाज है. कुछ लोग इसे नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं.

ललन ने कहा कि नीतीश कुमार ने उन लोगों की पहचान की जो इसे नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे थे और इसे ठीक करने के लिए कदम उठाए हैं.

जदयू के खिलाफ साजिश – ललन

ललन सिंह ने रविवार को राजधानी पटना में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरसीपी सिंह प्रकरण को लेकर भी इशारों-इशारों में बीजेपी पर निशाना साधा. ललन सिंह ने आरोप लगाया कि कुछ लोग (भाजपा) जदयू के खिलाफ साजिश कर रहे हैं और चिराग पासवान मॉडल जैसा दूसरा मॉडल (आरसीपी सिंह) बनाने की तैयारी कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के खिलाफ कोई साजिश नहीं चलेगी. चिराग पासवान मॉडल 2020 में इस्तेमाल किया गया था और अब एक और मॉडल तैयार किया जा रहा था. ललन सिंह ने कहा, नीतीश कुमार का कद कम करने की साजिश रची जा रही थी.

जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने आगे कहा कि आरसीपी सिंह जदयू जनता दल यूनाइटेड के साथ थे लेकिन उनकी आत्मा कहीं और थी. उनका इशारा परोक्ष रूप से बीजेपी की ओर था.

“आरसीपी सिंह कभी पार्टी के किसी संघर्ष का हिस्सा नहीं थे बल्कि सत्ता का हिस्सा थे. अब उन्हें सत्ता से हटा दिया गया है तो उन्हें दर्द हो रहा है. आरसीपी सिंह के साथ जो हुआ वह किसी दिन होना ही था क्योंकि उनका शरीर तो जनता दल यूनाइटेड के साथ था, लेकिन उनकी आत्मा कहीं और थी”, ललन सिंह ने कहा.

केन्द्रीय कैबिनेट विस्तार में जदयू नहीं होगा शामिल

ललन सिंह ने मीडिया को बताया कि केन्द्रीय कैबिनेट विस्तार की स्थिति में जनता दल (यूनाइटेड) केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होगा. उन्होंने कहा, “2019 में ही यह तय हो गया था कि जनता दल यूनाइटेड केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होगा और हम इस फैसले पर कायम हैं.”

हालांकि, सूत्रों के मुताबिक, जनता दल यूनाइटेड दो कैबिनेट बर्थ चाहता है लेकिन बीजेपी ने इसे खारिज कर दिया है. इसलिए नीतीश कुमार की पार्टी ने केंद्रीय कैबिनेट में शामिल नहीं होने का फैसला किया है.