राजस्व संग्रह में 11.70 फीसद की वृद्धि, फिर भी लक्ष्य से कोसों दूर

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि वित वर्ष 2020-21 में पहली बार पांच महीने बाद पिछले वर्ष की तुलना में अगस्त में राज्य के अपने राजस्व संग्रह में 11.70 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. फिर भी राजस्व संग्रह इस साल के लक्ष्य 39,989 करोड़ से कोसो दूर है. सरकार की कोशिश है कि कोरोना संक्रमण और महीनों के लाॅकडाउन के बावजूद कम से कम पिछले साल जितना कर संग्रह किया जा सके.

मोदी ने बताया कि 2019-20 की तुलना में वर्ष 2020-21 में अगस्त तक के पांच माह में सभी महत्वपूर्ण विभागों के कर संग्रह में 23.69 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है. वाणिज्य कर में 31.99 प्रतिशत, निबंधन में 50.18 और परिवहन में 35.75 प्रतिशत कम संग्रह हुआ है. विपरीत परिस्थितियों के बावजूद केवल खनन में 77.93 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

आप ये खबरें भी पढ़ना चाहेंगे –

सावधान ! पटना में मास्क चेक करने उतरे हैं DM-SSP, आपको भी कहीं देना न पड़ जाए फाइन
कैदी नंबर 3351 को वापस होटवार जेल में डालिए – नीरज
1,978 नये मामले आये सामने, एक्टिव केसों की संख्या हुई 18,429

अप्रैल, 2020 में जब पूरी तरह लॉकडाउन लागू था तो पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में राजस्व संग्रह में 81.61 प्रतिशत तथा मई में 42.14 प्रतिशत की कमी रही. जून में जब अनलॉकडाउन प्रारंभ हुआ और अधिकांश सेवाओं को जारी किया गया तो यह घाटा 15.12 फीसदी और जुलाई में 8.34 प्रतिशत रहा. अगस्त में राजस्व संग्रह की स्थिति में पिछले चार महीने की तुलना में सुधार हुआ है, मगर सभी स्रोतों के औसत कर संग्रह में अब भी विगत वर्ष की इसी अवधि की अपेक्षा 23.69 प्रतिशत की कमी बरकरार है.

error: Content is protected !!