अम्बेदकर के बाद रामविलास दलितों के सबसे बड़े नेता – सुशील मोदी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | शनिवार को स्व रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन हो गया. पटना दीघा के जनार्दन घाट पर उनके बेटे और लोजपा चीफ चिराग पासवान ने उन्हें मुखाग्नि दी.

गंगा किनारे पटना (दीधा) के जनार्दन घाट पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने दिवगंत राजनेता रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि दी. श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि बाबा साहेब भीम राव अम्बेदकर के बाद देश में दलितों के सबसे बड़े नेता रामविलास पासवान थे. जेपी के बाद बिहार के वे पहले ऐसा नेता रहे जिन्हें मिलिट्री ऑनर के साथ अंतिम विदाई दी गई है.

मोदी ने कहा कि रामविलास जी उन दलित नेताओं में थे जिन्होंने कभी अन्य जातियों खास कर सवर्णों के प्रति कभी विषवमन नहीं किया. वे सदा समन्वय व सर्वस्पर्शी राजनीति के हिमायती रहे.

सुशील मोदी ने कहा कि स्व पासवान जिस भी विभाग के मंत्री रहे, अपनी कार्यकुशलता से उस विभाग को जनसरोकार से जोड़ा. बिहार के लिए उनका जो योगदान रहा है, उसे कभी भूला नहीं जा सकता है. भले अब वे भौतिक तौर पर हमारे बीच नहीं है, मगर उनकी कीर्ति सदैव अमर रहेगी.