सफाई कर्मियों की हड़ताल से राजधानी में कूड़ा-कचरा का लगा अंबार

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | राजधानी में सफाई कर्मचरियों के हड़ताल में जाने के बाद हर जगह कूड़ा ही कूड़ा नज़र आ रहा है. इसी हड़ताल की वजह से पटना में गुरुवार को कूड़ा नहीं उठाया गया.

सफाई कर्मचारियों के हड़ताल में चले जाने से पटना में जगह जगह पर कूड़ा का अंबार देखा गया. कोरोना संक्रमण के बीच नगर निगम के सफाई कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने की वजह से सेनिटाइजेशन का काम भी ठप ही रहा.

कूड़ा उठाने वाली गाड़ियां निकल ही नहीं रही हैं. इसके कारण मोहल्ले ही नहीं, शहर की मुख्य सड़कों पर भी कूड़ा- कचरा फैलने लगा है. हड़ताल पर गए कर्मचारियों ने किसी भी कचरा गाड़ी को निकालने पर रोक की जो रणनीति बनाई थी वो सटीक रही. नूतन राजधानी अंचल में तो कर्मचारियों ने गेट ही बंद कर दिया. इससे कुछ निजी कर्मचारियों के सहारे वीआईपी इलाकों में सफाई व्यवस्था को चालू कराने की तैयारी कर रहे निगम पदाधिकारियों को झटका लगा.

नगर निगम द्वारा सफाई कर्मियों की हड़ताल को टालने की कोशिश भी की गई लेकिन वो सफल नहीं हो पाई. मेयर सीता साहू और नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने संघ के नेताओं से बात कर मानाने की कोशिश की लेकिन बात नहीं बन पाई.

बताते चलें कि हड़ताल कर्मचारियों ने 4300 दैनिक कर्मचारियों का मामला उठाया है. उनका कहना है कि 28 जनवरी को लोकायुक्त के जिस पत्र का हवाला देकर नगर विकास विभाग ने दैनिक कर्मचारियों की सेवा को एजेंसी के माध्यम से लेने का आदेश जारी किया, उसे निरस्त करना ही होगा.