पार्टी का अकेले चुनाव लड़ने का फ़ैसला 2025 में लाभ करेगा: चिराग

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | लोक जनशक्ति पार्टी सुप्रीमो चिराग पासवान ने बिहार विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद भी अपने एजेंडे को सफल बताने में लगे हुए हैं. आज संवाददाता सम्मेलन करते हुए उन्होंने अपने एजेंडे “बिहारी फर्स्ट बिहार फर्स्ट” को सफल करार देते हुए कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी का सिर्फ एक ही मकसद था, नीतीश कुमार को हराना, जिसमें लोजपा काफी हद तक सही साबित हुई है.

प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए चिराग पासवान ने कहा कि हमलोग का सिर्फ एक ही मकसद था – बिहार में जेडीयू को हराना और नीतीश कुमार को दोबारा मुख्यमंत्री नहीं बनने देना. इस काम में हमलोग सफल हुए और नीतीश कुमार की हार हुई है. लेकिन आज भी लोजपा का बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ जो संबंध है वह केंद्र में बरकरार रहेगा.

लोजपा सुप्रीमो ने यह भी कहा कि बिहार में लोजपा ने अकेले चुनाव लड़कर दमदार प्रदर्शन किया है. वोटिंग प्रतिशत जिस तरह से मिला है, 2025 में लोजपा पूरे दमखम से चुनाव लड़ेगी.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बधाई देने के सवाल पर लोजपा सुप्रीमो ने कहा कि बिहारी होने के नाते वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जरूर धन्यवाद देंगे. लेकिन धन्यवाद का असली हकदार भारतीय जनता पार्टी है. बिहार विधान सभा चुनाव में भाजपा की जीत हुई है. ये तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं, जिनको बिहार की जनता ने जनादेश दिया है.

रामविलास पासवान के निधन का हवाला देते हुए लोजपा सुप्रीमो ने बताया कि परिवार और चुनाव के बीच समय का काफी अभाव था. बावजूद इसके लोजपा पिछलग्गू पार्टी बनकर नहीं बल्कि एक ऐसी पार्टी बनकर चुनाव में खड़ी थी, जो अपने दम पर बिहार में सरकार बनाना चाहती थी.

आगे चिराग पासवान ने कहा पिछली बार गठबंधन में रह कर मात्र 2 सीट जीती और इस बार पार्टी अकेले लड़ कर 1 सीट जीती है और 9 सीटों पर दूसरे स्थान पर हुई है. हमने 50 सीटों पर लोजपा ने कड़ी टक्कर दी है. 2025 चुनाव में भी “बिहार 1st, बिहारी 1st” के नारे के साथ ही जाएँगे.

चिराग ने कहा कि बिहार पर राज करने की बात होती तो एनडीए में रहता. पार्टी ने नाज़ करने के लिए बाहर जाकर चुनाव लड़ा. पार्टी को हर सीट पर वोट मिला. एक झंडे के नीचे चुनाव लड़ना में मज़ा आया. बिहार में 135 सीटों पर लगभग 25 लाख लोग पार्टी से जुड़े. यह शानदार रहा और अब अकेले चुनाव लड़ना पार्टी का फ़ैसला 2025 में लाभ करेगा.