प्रदर्शनकारियों से ‘हिंसा ना करने’ की अपील करने से ओवैसी का इनकार

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| एक तरफ जहां लगभग पूरे देश में केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के खिलाफ युवा रोड पर आकर हिंसा पर उतारू हैं, वहीं दूसरी ओर ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India Majlis e Ittehadul Muslimeen) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने इन हिंसक प्रदर्शनकारियों से हिंसा न करने की अपील करने से साफ इनकार कर दिया है.

शुक्रवार को एक टीवी डिबेट के दौरान जब उनसे यह कहा गया कि वह हिंसा करने वालों से ऐसा ना करने की अपील कर दें, तो सांसद ने साफ इनकार कर दिया. उन्होंने लाइव शो में तीन बार कहा कि वे ऐसा हरगिज नहीं कहेंगे. उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार इसके लिए जिम्मेदार है.

लाइव डिबेट के दौरान असदुद्दीन ओवैसी ने सेना में भर्ती की नई योजना अग्निपथ (Agnipath Yojna) के लिए मोदी सरकार (Modi Government) को जमकर कोसा. अग्निपथ को लेकर देश के कई हिस्सों में हो रही हिंसा के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए ओवैसी ने पीएम से अपील की है कि वह इस स्कीम को वापस ले लें. लेकिन उन्होंने हिंसा करने वालों से अपील करने से इनकार कर दिया.

यह भी पढ़ें| बाढ़: गायब बच्चा सकुशल बरामद, दो महिला गिरफ्तार, 1.50 लाख में बेचा था बच्चा

आज चैनल आज तक के टीवी डिबेट शो पर उनसे बार-बार कहा गया कि वह एक बार हिंसा की आलोचना कर दें और अपील करें कि ट्रेन में आगजनी बंद कर दें. लेकिन ओवैसी ने इसके लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार बताते हुए कहा, ”हरगिज नहीं कहूंगा मैं, हरगिज नहीं कहूंगा मैं, हरगिज नहीं कहूंगा मैं.” हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि देश में हिंसा की कोई जगह नहीं है.

ओवैसी ने कहा कि देश में 2 साल में चुनाव तो हुए लेकिन सेना में भर्ती नहीं हुई. उन्होंने कहा, ”मैं भाजपा से अपील कर रहा हूं कि आप देश की जनता की आवाज को सुनिए, अपनी गलती मानिए और फैसले को वापस ले लीजिए. यह क्यों हुआ, देश के प्रधानमंत्री से मैं हाथ जोड़कर अपील करता हूं कि आप फैसले को वापस लीजिए. यदि हिंसा हो रही है तो सरकार क्या कर रही है. सरकार जिम्मेदार है. बुलडोजर, बुलडोजर कर रहे थे, क्या हुआ बुलडोजर का.”