बिहार चुनाव पर पलटा विपक्ष, अब मांगों के साथ चुनाव आयोग पर छोड़ा फैसला

पटना (TBN – The Bihar Now रिपोर्ट)| बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर एक ओर जहां बीजेपी और जेडीयू डिजिटल माध्यम से तैयारियों में व्यस्त नजर आ रही हैं, वहीं विपक्ष की ओर से कुछ दिन पहले तक लगातार चुनाव टालने की मांग की जाती रही है. लेकिन, आज दिल्ली में 9 विपक्षी दलों की बैठक बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्ष का मूड बदला नजर आ रहा है.

दरअसल शुक्रवार को दिल्ली में विपक्षी दलों की बैठक में सभी दलों ने चुनाव कराने का फैसला चुनाव आयोग पर छोड़ दिया है. हालांकि विपक्ष ने चुनाव आयोग से कई मांग भी की है. बैठक के बाद विपक्षी दलों ने कहा कि चुनाव कराने का अधिकार चुनाव आयोग का है.

आपको याद होगा जिस तरह से पिछले दिनों लगातार नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव चुनाव टालने की बात कह रहे थे उससे तो यही लग रहा था कि पूरा विपक्ष एक जुट होकर चुनाव टालने की बात को बैठक में उठाएगा. लेकिन, आज की बैठक में ऐसा कुछ भी नहीं था. आरजेडी की ओर से बैठक में मौजूद मनोज झा ने भी कहा कि लोकतंत्र का स्वास्थ्य भी उतना ही जरूरी है जितना लोगों का स्वास्थ्य.

वहीं RLSP उपेंद्र कुशवाहा ने कहा – हम चाहते हैं कि एक बूथ पर 1000 की बजाय 250 लोगों के मतदान की व्यवस्था की जाये. वहीं कांग्रेस की ओर से बैठक में मौजूद शक्ति सिंह गोहिल ने कहा है कि चुनाव पारंपरिक तरीके से कराया जाए और सबको प्रचार का समान अधिकार मिले.

ऐसा माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद विपक्ष ने एक तरह से चुनाव कराने के पक्ष में ही अपनी राय दी है. हालांकि विपक्ष की ओर से कुछ मांग की है गई है. विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से मांग की है कि चुनाव में सभी को समान रूप से अवसर मिले. डिजिटल प्रचार के माध्यमों पर चुनाव आयोग निगरानी रखें, जो पार्टी इसमे सक्षम नहीं है उन्हें भी मौका मिलना चाहिए.