‘पीएम मैटेरियल’ मामले पर नीतीश ने कहा – फालतू बात है, चर्चा मत कीजिए

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| पिछले कुछ दिनों से जदयू के कुछ नेताओं द्वारा नीतीश कुमार को ‘पीएम मैटेरियल’ बताए जाने वाले मामले का खुद नीतीश कुमार ने पटाक्षेप कर दिया. मंगलवार को दरभंगा और मधुबनी के बाढ़ प्रभावित इलाकों का सर्वेक्षण करने के बाद पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि किसी नेता के बोल पार्टी के बोल नहीं होते.

पटना एयरपोर्ट पर पीएम मैटेरियल के संबंध में पत्रकारों द्वारा पूछे गये सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ये सब फालतू बातें हैं, इसकी चर्चा मत कीजिए. पार्टी की मीटिंग में नेता लोगों को जो मन में आता है, वे बोल देते हैं.

उन्होंने कहा कि हमलोगों की पार्टी की मीटिंग इसके लिए नहीं थी, दूसरे काम के लिए मीटिंग बुलाई गई थी. पार्टी के अध्यक्ष के निवार्चन का अनुमोदन और पार्टी के संविधान में संशोधन के साथ ही जातिगत जनगणना को लेकर मीटिंग में चर्चा हुई.

उन्होंने कहा कि पार्टी के किसी नेता के बोलने का मतलब यह नहीं है कि यह पूरी पार्टी का निर्णय है. इसे लेकर क्षमा कीजिएगा, हम इन सब बातों को नहीं जानते हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने पत्रकारों से साफ तौर पर कहा कि अब वे उनसे पीएम मटेरियल वाले बयान पर सवाल ना करें. ये सब फालतू की बातें हैं, इसलिए उनसे इस संबंध में अब कुछ न पूछा जाए.

दरअसल, दरभंगा और मधुबनी जिले के बाढ़ (Bihar Flood) प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर लौटने के बाद जब वे पत्रकारों से मुखतीब हुए तब किसी ने उनसे राज्यसभा सांसद सुशील मोदी (Sushil Modi) द्वारा दिए गए बयान के संबंध में सवाल किया.

सवाल सुनते ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, “ये सब फालतू बातें हैं. अब इसकी चर्चा मत करिए. पार्टी की बैठक होती है, तो लोग बहुत तरह की बातें करते हैं, जिसको जो मन में आता है, बोलते रहते हैं. हम लोगों के पार्टी की जो मीटिंग थी, वो इस मुद्दे पर बात करने के लिए नहीं बुलाई गई थी.”

Also Read| पटना पुलिस का अमानवीय चेहरा, बच्चे पर फेंका खौलता चाय

नीतीश कुमार ने कहा, “अध्यक्ष का निर्वाचन, उसकी पुष्टि, पार्टी संविधान में बदलाव के संबंध में मीटिंग में बातचीत की गई. जातीय जनगणना (Caste Based Census) के मुद्दे पर चर्चा हुई है. लेकिन पार्टी के कोई नेता अगर कुछ बोलते हैं, तो वो उनकी व्यक्तिगत राय है. वो पार्टी का निर्णय नहीं है. इसलिए हमको क्षमा कीजिये अब से हमसे ये नहीं पूछियेगा.”

सुशील मोदी ने झाड़ा पल्ला

वहीं दूसरी ओर, कभी नीतीश कुमार को “प्रधानमंत्री बनने के योग्य” बताने वाले सुशील मोदी ने इस मामले से अपना पल्ला झाड़ लिया. मंगलवार को पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या नीतीश कुमार सही में ‘पीएम मैटेरियल’ हैं, तो इसपर सुशील मोदी ने अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा यह कोई मुद्दा नहीं है और हमें इस संदर्भ में कुछ नहीं कहना है.

बताते चलें कि पिछले कुछ दिनों से जदयू के नेतागण जैसे उपेन्द्र कुशवाहा, केसी त्यागी, ललन सिंह आदि ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पीएम मैटेरियल बताया था. खासकर कुशवाहा ने तो कई मौकों पर ये बात कहीं जिसका बीजेपी के कुछ नेताओं ने विरोध भी किया था.