नीतीश के मंत्री ने जदयू-बीजेपी को बताया पति-पत्नी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| जेडीयू नेता और मंत्री विजेंद्र यादव (Vijendra Yadav) ने बिहार में महाराष्ट्र जैसे हालात होने के सवाल पर कहा कि वो बम्बई है और ये पटना है. दोनों में आसमान जमीन का अंतर है. जेडीयू में टूट की खबर निराधार है.

जेडीयू के वरिष्ठ नेता और नीतीश सरकार (Nitish Government) के मंत्री विजेंद्र यादव ने को पति-पत्नी बताया है. जेडीयू नेता ने कहा कि गठबंधन में दो दलों में पति-पत्नी जैसा रिश्ता होता है. जिसमें कितना भी खटपट हो जाए लेकिन रिश्ता बरकरार रहता है, रिश्ता टूटता नहीं है.

विजेंद्र यादव ने कहा कि जेडीयू और बीजेपी अलग-अलग दल है. दोनों पार्टी की अलग-अलग विचार धारा है. इसीलिए खटपट होती रहती है. लेकिन इसके वजह से गठबंधन टूट जाए या सरकार पर कोई असर पड़े ऐसा नहीं है. दोनों पार्टी मंत्रिमंडल में एक है और हमारे बीच सहमति से काम होता है.

यह भी पढ़ें| कोबरा ने बच्चे को काटा, फिर खुद मर गया !

नीतीश के मंत्री विजेंद्र यादव का बयान उस समय आया है जब अग्निपथ (Agnipath Scheme) और शिक्षा व्यवस्था को लेकर जेडीयू और बीजेपी नेताओं के बीच जमकर बयानबाजी हो रही है. इस बीच महाराष्ट्र (Maharashtra) में जारी सियासी उछल पुथल के बीच कहा जा रहा है बिहार में जेडीयू में टूट हो सकता है.

अलग-अलग दलों की अलग-अलग राय

विजेंद्र यादव से जब पूछा गया कि महाराष्ट्र में हो रहे उथल-पुथल का असर क्या बिहार में भी पड़ सकता है तो . यहां भीन जेडीयी के विधायक तोड़े जा सकते हैं. इसपर उन्होंने कहा कि नेता में दम होना चाहिए. जो पार्टी को जोड़ के रखे. नीतीश कुमार को पार्टी चलाना अच्छे से आता है.

पार्टी का हर नेता वफादार

उन्होंने कहा कि जेडीयू का हर नेता हर विधायक पार्टी के लिए वफादार है. तो वहीं अग्निपथ पर दोनों पार्टी के बीच हो रही बयानबाजी पर उन्होंने कहा कि गठबंधन दल एक-दूसरे के गुलाम नहीं होते हैं. सहयोगी होते हैं. इसीलिए किसी भी विषय पर उनकी अपनी-अपनी राय होती है. इसको वो आपस मे रखते हैं और चर्चाएं होती हैं.

आरसीपी सिंह पर भी दो टूक जवाब

तो वहीं आरसीपी सिंह (R C P Singh) की पार्टी से नाराजगी पर विजेंद्र यादव ने कहा अभी वो पार्टी में हैं. लेकिन कोई पार्टी के खिलाफ काम करेगा तो उसको पार्टी से निष्कासित किया जायेगा. हर किसी को पार्टी के नियम-कानून के दायरे में रहकर काम करना होगा. अनुशासन का पालन करना होगा. चाहे वह कोई भी क्यों ना हो. सबको पार्टी के हित के लिए काम करना होगा.

(इनपुट-न्यूज)