जातीय जनगणना समाज को एकजुट करने के लिए – नीतीश

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| जातीय जनगणना समाज को बांटने के लिए नहीं बल्कि एकजुट करने के लिए जरुरी है. यह बात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता दरबार के बाद पत्रकारों से कही.

उन्होंने कहा कि कुछ लोग जातीय जनगणना के खिलाफ में बोलते और लिखते रहते हैं लेकिन ऐसी बात नहीं है, यह समाज को बांटने के लिए नहीं बल्कि एकजुट करने के लिए जरुरी है.

‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम के पश्चात् मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से बातचीत की. जातीय जनगणना को लेकर पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसको लेकर हमलोगों ने एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के साथ प्रधानमंत्री से मिलकर अपनी बातों को रख दिया है. साथ ही, इसके संबंध में सभी बातों को पहले ही मीडिया के सामने रख दी गई है.

Also Read| जिले के डीएम साहब भ्रष्टाचारों को बढ़ावा दे रहे हैं – फरियादी ने नीतीश से कहा

मुख्यमंत्री ने कह कि अब निर्णय लेना केंद्र सरकार का काम है. देश में अभी जनगणना की शुरुआत नहीं हुई है. देश के विभिन्न राज्यों से इसकी मांग उठ रही है. अभी कुछ भी सामने नहीं आया है, ऐसे में अभी इस पर कुछ भी नहीं कहा जा सकता है.

उन्होंने कहा कि मीडिया की खबरों में यह बात सामने आ रही है कि सभी राज्यों के लोग जातीय जनगणना की मांग कर रहे हैं. ये देश के हित में है. इससे सभी को लाभ मिलेगा. जातीय जनगणना होने से समाज के वैसे वर्ग जिनको आगे बढ़ाने की जरुरत है के संबंध में जानकारी मिलेगी. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमलोग इसको लेकर हमेशा अपनी बातों को रखते रहे हैं’.