नीतीश ने खेला मास्टर स्ट्रोक, आरसीपी को बनाया जदयू का राष्ट्रीय अध्यक्ष

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| जदयू अध्यक्ष और बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने रविवार को एक सियासी मास्टर स्ट्रोक खेल दिया है. उन्होंने अपने काफी नजदीकी आरसीपी सिंह (RCP Singh) यानि रामचंद्र प्रसाद सिंह को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया है. हालांकि नीतीश कुमार जदयू राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर 2022 तक बने रह सकते थे.

सूत्रों के मुताबिक, वर्तमान विस में सीटों के मामले में बीजेपी के बड़े भाई की भूमिका में आने से नीतीश अपने आप को असहज महसूस कर रहे थे. साथ ही जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के कारण वे कोई कड़ा फैसला नहीं ले सकते थे अन्यथा मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के कारण उनपर एनडीए के साथ गठबंधन धर्म की मर्यादा का सवाल उठ सकता था. इसी असहजता को देखते हुए नीतीश ने यह मास्टर स्ट्रोक खेलते हुए आरसीपी को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया है.

एक बात और है कि बिहार विस चुनाव प्रचार के दौरान नीतीश ने इसे अपना आखिरी चुनाव बताया था. हालांकि बाद में उन्होंने इसका अर्थ अलग बताया था. वैसे भी, लगता है नीतीश अब सक्रिय राजनीति से दूर रहना चाहते हैं. सियासी गलियारों के अनुसार, आरसीपी सिंह को अपना उत्तराधिकारी घोषित करके नीतीश कुमार ने लगभग अपनी पारी समाप्ति का ऐलान कर दिया है.

बताते चलें कि हमेशा से चौंका देने वाला फैसला लेने को मशहूर नीतीश कुमार राजधानी में चल रही JDU की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह फैसला लिया. उन्होंने अपने गृह जिला नालंदा के और अपने बेहद करीबी रामचंद्र प्रसाद सिंह को पार्टी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया. खुद नीतीश के द्वारा राष्ट्रीय कार्यकारिणी में रखे गये इस प्रस्ताव पर सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से पारित कर दिया.