बिहार नहीं यूपी से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे नीतीश कुमार

पटना (TBN – वरिष्ठ पत्रकार अनुभव सिन्हा की रिपोर्ट)| नीतीश कुमार की नरेन्द्र मोदी को टक्कर देने की योजना फुल प्रूव तरीके से तैयार की जा रही है. योजना ऐसी है जिससे न सिर्फ विपक्ष प्रोत्साहित हो बल्कि जदयू का सांगठनिक विस्तार भी स्वयंमेव तरीके से होता चला जाए. हर उस जगह जहां वह संगठन के स्तर पर शुन्य है. जैसे, उत्तर प्रदेश !

नीतीश कुमार 2024 में लोकसभा का चुनाव लडे़ंगे. उनके चुनाव लड़ने से माहौल बनेगा और भाजपा को कड़ी टक्कर दी जा सकेगी. इसकी जानकारी जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने दी है.

जैसा कि ललन सिंह ने बताया है, नीतीश कुमार यूपी के फूलपुर से चुनाव लड़ सकते हैं. अभी यह लोकसभा सीट भाजपा के खाते में है जहां से केशरी देवी पटेल ने 2019 में भाजपा प्रत्याशी के रुप में जीत दर्ज की थी.

ललन सिंह ने बताया कि फूलपुर के लोगों के आग्रह पर नीतीश कुमार वहां से चुनाव लड़ सकते हैं. उन्होने यह भी कहा कि जदयू के लिए यह गर्व की बात है कि उत्तर प्रदेश के लोग ऐसा चाहते हैं. उल्लेखनीय है कि यूपी में समाजवादी पार्टी विपक्ष का मुख्य चेहरा है और नीतीश कुमार के लिए रही-सही कसर वह पूरी कर सकती है.

जानकारी के लिए बता दें कि 2018 में फूलपुर लोकसभा सीट पर हुए उप चुनाव में समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज की थी. लेकिन 2019 के लोकसभा आम चुनाव में केशरी देवी पटेल ने सपा प्रत्याशी पण्ढारी यादव को 1,71,968 मतों के रिकार्ड अंतर से पराजित किया था.

लेकिन 2019 के परिणाम से उलट ललन सिंह ने भरोसा जताया कि नीतीश कुमार और अखिलेश यादव के संयुक्त प्रचार से यूपी में 65 सांसदों वाली भाजपा 20 पर सिमट कर रह जायेगी. हालांकि उन्होने यह भी जोड़ा कि लोकसभा चुनाव में अभी समय है और जब समय आयेगा तब इस पर फैसला किया जायेगा.

यह भी पढ़ें| बेगूसराय फायरिंग मामले का राजनीतिक इस्तेमाल करने की फिराक में है सरकार ?

वैसे, फूलपूर लोकसभा सीट जदयू के लिए राजनीतिक टोटका भी साबित हो सकती है. यहां से जवाहर लाल नेहरू और वी पी सिंह चुने गए और दोनों प्रधानमंत्री बने. सम्भवतः इसीलिए बनारस से 100 किलोमीटर दूर फूलपुर सीट का चयन किया गया ताकि 2024 में निवर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को यहां से सीधी चुनौती दी जा सके.

एक सवाल के जवाब में ललन सिंह ने यह साफ किया कि बिहार की 40 में से हर सीट उनके लिए अनुकूल है.