Big NewsBreakingPatnaPoliticsफीचर

मेरे खिलाफ CBI से जाँच कराये नीतीश कुमार : तेजस्वी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | राजधानी पटना से एक बड़ी खबर आ रही है जहां तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को चिट्ठी लिखकर अपने ऊपर दर्ज हुए हत्या के मुकदमे को लेकर सीबीआई जाँच की अनुशंसा करने की माँग की है.

गौरतलब है, रविवार सुबह पूर्णिया जिले में राजद एससी-एसटी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति मल्लिक की अपराधियों ने मुर्गी फॉर्म रोड स्थित उनके घर में घुसकर हत्या कर दी थी. जानकारी के मुताबिक, तीन नकाबपोश अपराधी आए और 40 साल के मल्लिक के सिर और छाती में तीन गोलियां मारीं. घर वालों ने मल्लिक को घायल अवस्था में सदर अस्पताल ले गए, मगर कुछ ही देर में उनकी मौत हो गई थी.

शक्ति मल्लिक की मौत के साथ उसकी पत्नी ने तेजस्वी और तेजप्रताप पर मर्डर का केस दर्ज कराया है. शक्ति मल्लिक की पत्नी खुश्बू मल्लिक ने बताया कि हत्या के पीछे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव का हाथ है. खुश्बू ने कहां कि ये दोनों चुनाव लड़ने के लिए बड़ी रकम की डिमांड कर रहे थे, जो देने में शक्ति सक्षम नहीं था. उसके बाद ही उसके पति की हत्या की साजिश को अंजाम दिया गया है.

तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को पत्र लिखकर कहा है कि कुछ दिन पहले पूर्णिया के एक सामाजिक राजनीतिक कार्यकर्ता की हत्या की गई है. अत्यधिक व्यवस्था की वजह से मुझे थोड़ी देर से मामले की जानकारी हुई, फिर भी हमने देखा कि एक प्रेरित FIR जिसने मुझे और मेरे बड़े भाई को नामजद करने के बाद आपके मीडिया प्रबंधन के कौशल की कहानियां सामने आने लगी. दिन रात आप के प्रवक्ताओं, नेताओं की ओछी और आधारहीन बयानों के बावजूत मेरा मानना है कि कानून अपना काम करे. त्वरित अनुसंधान हो और जैसा आप के शासन की प्रवृत्ति रही है, सत्ता शीर्ष पर बैठे आला लोग इसे प्रभावित करने की कोशिश करने के लिए भी स्वतंत्र है.

आपके अपने ही लोग कई बार आप के अधीन काम कर रही बिहार पुलिस की साख और काबिलियत पर प्रश्नचिन्ह उठा चुके हैं. पीड़ित परिवार को यथाशीघ्र न्याय मिले और दूध का दूध और पानी का पानी हो, इस मंशा के साथ मैं आग्रह करता हूं कि इस मामले को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की किसी भी एजेंसी से जांच कराने की अनुशंसा की जाए. गृह मंत्री के नाते अगर आप चाहे तो नामांकन से पूर्व गिरफ्तार कर पूछताछ के लिए बुला सकते हैं. इसलिए त्वरित विचार करते हुए अनुसंधान की जिम्मेदारी सीबीआई को सौंपने की अनुशंसा करें.