वर्चुअल रैली में नीतीश ने विपक्ष पर किया ताबड़तोड़ हमला, इन मुद्दों पर की बात

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार विधानसभा चुनाव का काउंटडाउन शुरू हो गया है. आज JDU ने अपनी वर्चुअल रैली शुरू करते ही विपक्ष पर ताबड़तोड़ हमला बोला है. जदयू की वर्चुअल रैली के जरिए सीएम नीतीश कुमार ने चुनावी दंगल के लिए शंखनाद किया. वर्चुअल रैली में नीतीश ने इन मुद्दों पर बात की.

किसानों की होगी पूरी मदद

वर्चुअल रैली में किसानों के हक की बात करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि किसानों के लिए हमने बहुत काम किया है. कहने के लिए लोग चाहे जो भी कहें, लेकिन उनकी बातों में कोई सच्चाई नहीं है. उन्होंने कहा कि सरकार अब खेती के लिए बिजली का कनेक्शन दे रही है. इसके लिए अलग से फीडर लगाया जा रहा है. इसके लिए सरकार ने 1329 करोड़ रुपए दिए हैं. उन्होंने कहा कि किसानों को पहले डीजल पर सिंचाई के लिए ₹100 प्रति घंटे खर्च होते हैं अब बिजली से मात्र ₹5 खर्च हो रहे हैं .

लालू पर हमला

नीतीश कुमार ने बिना नाम लिए लालू पर तंज कस्ते हुए कहा कि कुछ लोग अंदर रहते हुए भी अपने लिए एक आदमी रख लिया है जो दिन भर अनाप-शनाप ट्वीट करते रहता है. आप ही बात कि कोई आदमी जेल में रहते हुए ट्वीट कैसे कर सकता है. इसका मतलब है कि बाहर में एक आदमी को हायर किया गया है जो ये सब कर रहा है.

मियां-बीबी के राज में होता था आतंकवाद

वर्चुअल रैली के दौरान नीतीश कुमार ने लालू पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा मियां-बीबी के राज में कैसे गाड़ियों से बन्दुक निकाल कर चलते थे. हम लोगों को मौका मिला तो… पहले क्या थी विधि व्यवस्था और आज क्या है.

RJD पर हमला बोलते हुए नीतीश ने कहा कि पहले सामूहिक नरसंहार होता था और आज क्या स्थिति है, जरा बताइए. हर प्रकार से हम लोगों ने काम किया, लेकिन कुछ लोग कुछ भी बोलते रहते हैं. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार क्राइम, करप्शन और कम्युनलिज्म को बर्दाश्त नहीं कर सकती है. जीरो टोलरेंस पर हम काम करते हैं और कहीं भी गलत चीज बर्दाश्त नहीं कर सकते.

लोग हमें क्विंटलिया बाबा कहने लगे

नीतीश कुमार ने बताया कि हमें जब काम करने का मौका मिला तो सबसे पहले हमने बाढ़ राहत पर काम किया था. यह बात किसी से नहीं छुपी थी कि 2007 में बाढ़ से 22 जिला प्रभावित हुई थी तथा ढ़ाई करोड़ की आबादी इससे प्रभावित हुई थी .तब हमारी सरकार ने किस तरीके से काम किया था. हम लोग पीड़ित परिवार के बीच एक-एक क्विंटल अनाज बांटने लगे. जब हम दरभंगा इलाके में गए तो लोग हमें क्विंटलियाा बाबा बोलने लगे.

प्रवासी मजदूरों की सरकार ने की मदद

नीतीश कुमार ने बताया कि कोरोना की वजह से लगे लॉकडाउन में बिहार के बाहर फंसे प्रवासी मजदूरों को हमें सीधे मदद मुहैया करवाया था. सभी के बैंक अकाउंट में एक-एक हजार रुपए की राशि भेजी. बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री राहत कोष से 20 लाख 95000 लोगों के खाते में राशि भेजी गई.

काम करते हैं प्रचार नहीं.

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमलोग काम करने में यकीन करते हैं, प्रचार में नहीं. उन्होने कहा कि लोगों की सेवा करना हमारा कर्तव्य है. कुछ लोगों का काम है – काम कम करना और प्रचार अधिक करना. जबकि हमें प्रचार पर विश्वास नहीं है. हमें तो कर्म करना है.