पर्यटन तथा जल संसाधन विभाग पर भड़के सीएम नीतीश

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार विधानसभा चुनाव से पहले सीएम नीतीश कुमार लगातार योजनाओं की शुरुआत कर रहे है. इसी सिलसिले में आज सरकारी कार्यकर्मों के उद्धघाटन- शिलान्यास कार्यक्रम में जल संसाधन विभाग और पर्यटन विभाग की कमियों को सार्वजनिक कर दिया. दरअसल वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम जल ससाधन विभाग की तरफ से बोधगया की डॉक्यूमेंट्री दिखाई जा रही थी. उस डॉक्यूमेंट्री में भगवान बुद्ध की प्रतिमा पर सीएम नीतीश ने आपत्ति जताई. इसके साथ ही पर्यटन विभाग के एक विज्ञापन भी सवाल खड़े कर दिए.

जल ससाधन विभाग की तरफ से बोधगया का डॉक्यूमेंट्री दिखने के बाद जब सीएम नीतीश ने अपने सम्बोधन में कहा कि पता नहीं जल संसाधन विभाग का चित्र कौन लोग बनाते हैं. जिनको भगवान बुद्ध के बारे में भी जानकारी नहीं है. सीएम नीतीश ने कहा कि दिखाना है तो बुद्ध मंदिर के बगल वाली भगवान बुद्ध की प्रतिमा दिखानी चाहिए. सीएम नीतीश ने सवाल पूछा कि बोधगया की पहचान क्या है? फिर उत्तर देते हुए कहा कि बोधगया की पहचान बोधि मंदिर और बोधि वृक्ष है लेकिन उसे दिखाया ही नहीं जा रहा. उस जगह पर बगल में बनी भगवान बुद्ध की प्रतिमा को दिखाया जा रहा है

सीएम नीतीश ने पर्यटन विभाग को भी लपेटे में ले लिया. सीएम नीतीश ने कहा कि पर्यटन विभाग की तरफ से भी जो विज्ञापन जारी किए गए हैं उसमें भगवान बुद्ध को लेकर कई तरह की गलतियाँ है. इस तरह की गलती नहीं होनी चाहिए.