शराबबंदी के नए नियम से होगा खून खराबा – आरजेडी

फाइल फ़ोटो

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार में शराबबंदी (Liquor Prohibition in Bihar) को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) तरह-तरह के तरीके अपना रहे हैं. खोजी कुत्ते, ड्रोन के बाद अब बिहार में हेलीकॉप्टर से भी शराब के अड्डों को तलाशा जा रहा है.

इसके साथ ही शराबबंदी को प्रभावी बनाने के लिए सरकार समय-समय पर कई आदेश भी जारी करती है. राज्य सरकार ने सोमवार को घोषणा की थी कि राज्य में शराब पीकर पकड़े जाने पर अब जेल जाने से बच सकते हैं. लेकिन उन तस्करों और कारोबारियों के बारे में बताना होगा, जहां से पीने वाले ने शराब खरीदी थी, सरकार की इस घोषण के बाद विपक्ष हमलावर हो गया है.

इसपर आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी (RJD spokesperson Mrityunjay Tiwari) ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार के जो सलाहकार हैं, पता नहीं क्या-क्या करते रहते हैं. उन्होंने कहा कि यह समझ नहीं आता है कि सलाहकार ही नशे में नियम कानून बना रहे हैं क्या. कभी कहते हैं गुरूजी पाठशाला की जगह मधुशाला खोजेंगे. कभी ड्रोन से शराब की खोज, कभी हेलीकॉप्टर से शराब खोजेगा. आरजेडी प्रवक्ता ने कहा कि अभी तक सेना बुलाने की नौबत नहीं आयी है

कठिनाईयों का बनेगा कारण

मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि शराबबंदी कानून को लागू कराने में सरकार असफल हो गई है, इस वजह से इस तरह के निर्णय ले रही है. उन्होंने कहा कि सोमवार को उत्पाद विभाद द्वारा लिया गया यह फैसला आम लोगों के लिए कठिनाईयों का सबब बनेगा. उन्होंने कहा कि शराब पीने वाला व्यक्ति ही अगर शराब बेचने वाले व्यक्ति का ठिकाना पुलिस को बताएगा, तो इससे उसकी दुश्मनी शराब माफियाओं से हो जाएगी और ऐसे में खून खराबे की स्थिति बन सकती है.

यह भी पढ़ें| राजधानी में 410 लीटर देसी शराब बरामद, महिला समेत 10 गिरफ्तार

सूचना देने पर नहीं जाएंगे जेल

दरअसल सोमवार को मद्य निषेध विभाग ने एक फैसला लिया है. जिसमें कहा गया है कि अब अगर शराब पीने वाले शख्स के पकड़े जाने पर तस्करों और कारोबारियों के बारे में बताता है और उसकी निशानदेही पर तस्कर पकड़े जाते हैं तो सूचना देने वाले को जेल नहीं भेजा जाएगा. इतना ही नहीं कारोबारियों की गिरफ़्तारी होने पर शराब पीने वालों को सरकार क़ानूनी मदद भी करेगी.

(इनपुट-टीवी9)